सोमवार, 5 नवंबर 2012

कुरबानी या हत्या की ट्रेनिंग !


मुसलमान कई त्यौहार मानते हैं . जिनमें "ईदुज्जुहा "प्रसिद्ध और प्रिय त्योहर माना जाता है . भारत में इसे "बकरीद " भी कहते हैं .अरबी में ईदुज्जुहा का अर्थ बलिदान ( Sacrifice ) नहीं बल्कि " पशुवध का आनंद "( Joy of slaughter ) हैं.क्योंकि इसमें लाखों जानवरों का क़त्ल होता है .मुसलमानों का दावा है कि यह त्यौहार नबी इब्राहीम की अल्लाह के प्रति निष्ठा, भक्ति और उनके लडके इस्माइल की कुर्बानी को याद करने के लिए मनाया जाता है .और मुहम्मद साहब उसी इस्माइल के वंशज थे .चूँकि इब्राहीम की कथा इस्लाम से पहले की है और इब्राहीम के बारे में जो सही जानकारी बाइबिल , कुरान और हदीसों से मिलती वह इस प्रकार है .
1-इब्राहीम का परिचय 
इब्राहीम  إبراهيم‎ का काल लगभग 2000 साल ई ० पू से 1500 ई० पूर्व माना जाता है . इसके पिता का नाम मुसलमान "आजर آذر" और यहूदी "तेराह Terah"(  תָּרַח )बताते है .इब्राहीम " ऊर " शहर में पैदा हुआ था . जो हारान प्रान्त में था . वहां से इब्राहीम कनान प्रान्त में जाकर बस गया था .और उसके साथ उसकी बहिन ( पत्नी ) और भतीजा लूत भी आगये थे .इब्राहिम को एक गुलाम लड़की " हाजरा " मिली थी . जिस से उसने इस्माइल नामक लड़का पैदा किया था .जिसे मुहम्मद का पूर्वज माना जाता है . इब्राहीम और सारह से जो लड़का हुआ था उसका नाम "इसहाक " था .मुसलमान इनको नबी मानते हैं .यहूदी इसे अबराहाम(אַבְרָהָם  ) कहते हैं . जिसका अर्थ है जातियों का बाप .मुसलमान इब्राहीम को एक ,सदाचारी ,सत्यनिष्ठ ,और अल्लाह का परम भक्त नबी कहते हैं .लेकिन वास्तविकता यह है कि,
1-इब्राहीम का देशत्याग 
जब इब्राहीम अपने हारान देश को छोड़ कर कनान जाने लगा ,तो उसके साथ , लूत ,साराह अपनी सम्पति भी ले गया और वहीँ बस गया "बाईबिल .उत्पत्ति 12 :3 से 5
2-इब्राहीम झूठा और स्वार्थी था 
अबू हुरैरा ने कहा कि रसूल ने बताया , इब्राहीम झूठ बोलते थे .उनके प्रसिद्ध तीन झूठ इस प्रकार हैं ,एक मैं बीमार हूँ , दूसरा मैंने मूर्तियाँ नहीं तोड़ी . यह दोनो झूठ अल्लाह के लिए बोले थे . और तीसरा झूठ सराह के बारे में था , कि यह मेरी बहिन है .
"حَدَّثَنَا مُحَمَّدُ بْنُ مَحْبُوبٍ، حَدَّثَنَا حَمَّادُ بْنُ زَيْدٍ، عَنْ أَيُّوبَ، عَنْ مُحَمَّدٍ، عَنْ أَبِي هُرَيْرَةَ ـ رضى الله عنه ـ قَالَ لَمْ يَكْذِبْ إِبْرَاهِيمُ ـ عَلَيْهِ السَّلاَمُ ـ إِلاَّ ثَلاَثَ كَذَبَاتٍ ثِنْتَيْنِ مِنْهُنَّ فِي ذَاتِ اللَّهِ عَزَّ وَجَلَّ، قَوْلُهُهَاجَرَ فَأَتَتْهُ، وَهُوَ قَائِمٌ يُصَلِّي،  "

Sahih Al- Bukhari, Vol.4,  Bk 55-Hadith No 578, Translation by Dr. Muhsan Khan

इब्राहीम के तीन झूठ यह हैं ,
1-जब इब्राहीम ने चुपचाप देवताओं की मूर्तियाँ तोड़ दी ,और लोगों ने पूछा बताओ क्या यह काम तुमने किया है .तो इब्राहीम बोला मैंने नहीं यह तो सबसे बड़े देवता का काम है "सूरा -अम्बिया 21 :62 से 63
2-जब लोगों ने इब्राहीम के पूछा कि तुम्हारा अल्लाह यानी दुनिया के स्वामी के बारे में क्या विचार है ,इब्राहीम आकाश के तारों को देखता रहा , और बोला मैं तो बीमार हूँ "सूरा -अस सफ्फात 37 :87 से 89
3-इब्राहीम ने साराह के बारे में कहा बेशक यह मेरी बहिन है , और मेरे बाप की बेटी है ,लेकिन मेरी सगी माँ की बेटी नहीं है .इसलिए अब यह मेरी पत्नी बन गयी है " बाइबिल .उत्पत्ति 20 :13
3-इब्राहीम पर लानत 
जो भी अपनी बहिन के साथ सहवास करे उस पर लानत , चाहे वह उसकी सगी बहिन हो या सौतेली .तो सब ऐसे व्यक्ति पर लानत करें और कहें आमीन '
 बाइबिल .व्यवस्था 27 :22 
तुम पर हराम हैं , तुम्हारी बहिनें " सूरा -निसा 4 :23 
4-इब्राहीम का पापी परिवार 
इब्राहीम के काबिले में लड़कों के साथ कुकर्म करने का रिवाज था और उसका भतीजा लूत भी ऐसा था . इस कुकर्म को लूत के नाम से "लावातत" कहा जाता है .इनकी लीला दखिये ,
एक दिन कुछ सुन्दर लडके लूत से मिलने आये ,तो उन्हें देख कर लोग आगये .इस से लूत चिंतित हो गया .और उन लोगों को रोकना कठिन होने लगा .क्योंकि वहां के लोग लड़कों के साथ कुकर्म " Sodomy" करते थे . लूत ने उन लोगों से कहा इन लड़कों को छोडो यह मेरी बेटियां हैं यह इस काम के लिए अधिक उपयोगी हैं .लेकिन लोग बोले तू जानता है कि हमें क्या पसंद है "सूरा -हूद 11 :77 और 78 
जिस तरह इब्राहीम ने अपनी बहिन से सहवास किया था उसका भतीजा लूत भी महा पापी था .यह बाइबिल बताती है .
"एक रात लूत की लड़कियों ने तय किया कि आज हम अपने पिता को खूब शराब पिलायेंगे .और उसके साथ सहवास करेंगे .पहले एक लड़की बाप के साथ सोयी , फिर बारी बारी से सभी बाप के साथ सोयीं .इस तरह सभी अपने बाप से गर्भवती हुयीं "बाईबिल -उत्पत्ति 19 :30 से 36 
5-इब्राहीम की रखैल हाजरा 
इब्राहीम सदाचारी नहीं था ,यह जानकर शैतान ने एक लड़की हाजरा इब्राहीम के पास भेज दी थी .इस से इब्राहीम ने सहवास किया था .
अबू हुरैरा ने कहा कि रसूल ने कहा है , शैतान ने ही हाजरा को इब्राहीम के पास इसलिए भेजा था कि वह उसे दासी के रूप में स्वीकार कर लें .और जब वह इब्राहीम के पास गयी तो इब्राहीम बोला . अल्लाह ने मुझे एक लड़की दासी भेज दी है .

"وقال: 'لقد بعث الله لي الشيطان. اصطحابها إلى إبراهيم وهاجر تعطي لها ". جاء ذلك عادت لإبراهيم وقال: "الله أعطانا فتاة الرقيق للخدمة "

Sahih al-Bukhari, Volume 3, Book 34, Number 420

6-इस्माइल की झूठी पैदायश 
चूँकि उस समय काफी बूढ़ा हो चूका था , और उसकी पत्नी सारह बाँझ थी ,इसलिए इब्राहीम और हाजरा ने मिलकर एक साजिश रची और कहीं से एक ताजा बच्चा लोगों को दिखा दिया , कि यह बच्चा हाजरा ने पैदा किया है .और इब्राहिम ने उस बच्चे का नाम इस्माइल रखा था .
एक दिन इब्राहीम तड़के भोर में उठा ,और अँधेरे में हाजरा को तैयार किया .और उसे एक बच्चा दिया .फिर हाजरा ने उस बच्चे को झाड़ियों में छुपा दिया .और हाजरा इस तरह से चिल्लाने लगी जैसे बच्चा जनने की पीड़ा हो रही हो .और जब बच्चे के रोने की आवाज लोगों ने सुनी तो लोगों ने समझा हाजरा ने बच्चे को जन्म दिया है "बाइबिल .उत्पत्ति 21 :14 से 17 
7-अरब हराम की औलाद हैं 
अबू हुरैरा ने कहा कि रसूल ने कहा कि पहले तो हाजरा सारह के पास गयी .फिर इब्राहीम के पास चली गयी .उस समय इब्राहीम काम कर रहे थे .उन्होंने सारह से इशारे से पूछा कि यह किस लिए आयी है . साराह ने कहा यह तुम्हारी दासी है .और सेवा करेगी .अबू हुरैरा ने कहा इस बातको सुनते ही रसूल ने मौजूद सभी श्रोताओं से कहा , सुन लो सभी अरब उसी हाजरा की संतानें हो "

"ثم القى رجال هاجر كخادمة بنت لسارة. جاء سارة الظهر (لإبراهيم)، في حين كان يصلي. إبراهيم وهو يشير بيده، سأل: "ما الذي حدث؟" أجابت، "والله مدلل المؤامرة الشريرة للكافر (أو شخص غير أخلاقي) وأعطاني هاجر للخدمة." (أبو هريرة ثم خاطب مستمعيه قائلا: "هذا (حجر) كان أمك يا بني ما هو بين سما (أي العرب، من نسل إسماعيل، ابن هاجر)."

Bukhari-Volume 4-Book 55: Prophets-Hadith 578
Eng Reference  : Sahih al-Bukhari 3358

चूँकि मुहम्मद साहब खुद को भी इब्राहीम के नाजायज ,पुत्र और शैतान द्वारा भेजी गई औरत हाजरा के लडके इस्माइल का वंशज मानते थे .और खुद को इब्राहीम कि तरह रसूल साबित करना चाहते थे .इसलिए उन्होंने इसके लिए इब्राहीम द्वारा की इस्माइल की क़ुरबानी की कहानी का सहारा लिया .

8-क़ुरबानी का सपना 
इब्राहीम के पूर्वज अंधविश्वासी थे और सपने की बातों को सही समझ लेते थे .बाइबिल और कुरान में ऐसे कई उदहारण मिलते हैं ,जैसे
"यूसुफ ने पिता से कहा कि रात को मैंने एक सपना देखा कि ग्यारह तारे .सूरज और चाँद मुझे सिजदा कर रहे हैं , यह उन कर पिता ने कहा तुम इस सपने की बात अपने भाइयों से नहीं कहना .ऐसा न हो वह कोई साजिश रचें " सूरा-यूसुफ 12 :4 -5 
ऐसा ही सपना इब्राहीम ने देखा ,और सच मान बैठा ,कुरान में लिखा है
जब इब्राहीम का लड़का चलने फिरने योग्य था , तो इब्राहीम ने उस से कहा बेटा मैंने सपने में देखा कि जसे मैं तुझे जिबह कर रहा हूँ ,बोल तेरा क्या विचार है "
सूरा -अस सफ्फात 37 :102 
(अरबी में "इन्नी उज्बिहुक انّي اُذبحك" तेरी गर्दन पर छुरी फिरा रहा हूँ )

9-अल्लाह ने क़ुरबानी रोकी 
जब इब्राहीम ने अपने बेटे का गला काटने के लिए छुरी हाथ में उठायी ,तो एक फ़रिश्ता पुकारा ,हे इब्राहीम तुम लडके की तरफ हाथ नहीं बढ़ाना .हमें यकीं हो गया कि तू ईश्वर से डरता है .बाइबिल -उत्पत्ति 22 :10 से 12 
हमने कहा हे इब्राहीम तूने तो सपने को सच कर दिया .यह तो मेरी परीक्षा थी .और फिर हमने एक महान क़ुरबानी कर दी "सूरा 37 :105 से 107 
( नोट - इन आयतों में कहीं पर किसी जानवर का उल्लेख नहीं है ,और न मैंढे का नाम है)

10- गाय की कुर्बानी
जब अल्लाह ने मूसा से कहा कि एक गाय को जिबह करो ,तो लोग बोले क्या तू हमें अपमानित कर रहा है .लेकिन जब लोग मूसा के कहने पर गाय जिबह कर रहे थे तब भी उनके दिल काँप रहे थे . सूरा -बकरा 2 :67 और 71 
गाय की क़ुरबानी ( ह्त्या ) का एक वीडियो देखिये 
http://www.youtube.com/watch?v=rgrB9X_mINU&feature=related
(नोट -इस आयत की तफ़सीर में लिखा है ,उस समय मिस्र में किब्ती ( Coptic ) लोग रहते थे जो गाय की पूजा करते थे .इसी लिए अल्लाह ने उनकी आस्था पर प्रहार करने और उनका दिल दुखाने के लिए गाय की कुर्बानी का हुक्म दिया था .जिसे रसूल ने भी सही मान लिया था .हिन्दी कुरान .पेज 137 टिप्पणी संख्या 24 मक्तबा अल हसनात रामपुर )
इन सभी प्रमाणों से सिद्ध होता है ,कि 1 . इब्राहीम को झूठ बोलने की आदत थी .और सगी बहिन से शादी करके महापाप किया था , और बाइबिल के मुताबिक यह काम लानत के योग्य है .2 .यातो इब्राहीम ने सपने में लड़के की क़ुरबानी की होगी या शैतान के द्वारा भेजी हाजरा के फर्जी पुत्र की क़ुरबानी की होगी .3 .इस झूठी कहानी को सही मान कर जानवरों का क़त्ल करना उचित नहीं है .4 .अल्लाह इब्राहीम और लूत जैसे पापियों को ही रसूल बनाता है .5 .सारे अरब के लोग इसलिए अपराधी होते हैं क्योंकि वह इब्राहीम के उस नाजायज लडके इस्माइल वंशज हैं ,जिसे शैतान ने भेजा था .6 .क्या इब्राहीम के बाद मुसलमानों में ऐसा एकभी अल्लाह भक्त पैदा हुआ , जो अपने लडके को कुर्बान कर देता .यहूदी और ईसाई भी इब्राहीम को मानते हैं लेकिन कुर्बानी का त्यौहार नहीं मनाते.
महम्मद साहब ने ईदुज्जुहा की परंपरा मुसलमानों को ह्त्या की ट्रेनिग देने के लिए की थी !

http://www.aboutbibleprophecy.com/abraham.htm

32 टिप्‍पणियां:

  1. ये कुत्ते के औलाद है इतना ही इन को खुदा प्यारा है तो अपने औलाद की कुरबानीकर के दिखाये मासूम जानवर को काट कर ये अपनी हैवानियत ही दिखाते है

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. तुम्हारे मंदिरों में भी क्या काटते है। भारत और नेपाल में कई मंदिर है जहा जानवरों की बलि दी जाती ह

      हटाएं
  2. दुर्भावना सहित असत्य का प्रचार

    उत्तर देंहटाएं
  3. लेख के तथ्य मेरी मनघडंत बातेँ और ईस्लाम विरोधी साईटो पर आधारित हैँ.

    उत्तर देंहटाएं
  4. bhai agar manghadat hai to fir ye to batao ke bakre ki kurbaani kyo dete ho ? khud ke bachho ki kyo nahi ?

    उत्तर देंहटाएं
  5. .सारे अरब के लोग इसलिए अपराधी होते हैं क्योंकि वह इब्राहीम के उस नाजायज लडके इस्माइल वंशज हैं ,जिसे शैतान ने भेजा था

    उत्तर देंहटाएं
  6. गाय पवित्र है और उसकी पवित्रता के कारण ही वजसनेयी संहिता में यह व्यवस्था दी गई है कि गोमांस खाना चाहिये।

    उत्तर देंहटाएं
  7. ऋग्वेद में इन्द्र का कथन आता है (१०.८६.१४), "वे पकाते हैं मेरे लिये पन्द्र्ह बैल, मैं खाता हूँ उनका वसा और वे भर देते हैं मेरा पेट खाने से" । ऋग्वेद में ही अग्नि के सन्दर्भ में आता है (१०.९१. १४)कि "उन्हे घोड़ों, साँड़ों,बैलों, और बाँझ गायों, तथा भेड़ोंकी बलि दी जाती थी.."
    तैत्तिरीय ब्राह्मण में जिन काम्येष्टि यज्ञों का वर्णन है उनमें न केवल गो और बैल को बलि देने की आज्ञा है किन्तु यह भी स्पष्ट किया गया है कि विष्णु को नदिया बैल चढ़ाया जाय, इन्द्र को बलि देने के लिये कृश बैल चुनें, और रुद्र के लाल गो आदि आदि।

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. yehi problem he tumhari. tum dusre dhrma se compare karte ho. agar who galat karte hai to tumhara islam bhi to galat hi kar raha hai . dusro ko sudharne ki bajay khud pe dyan deke khud sudhro.

      हटाएं
    2. Well ved mai kahi pe bhi jeev hinsa nahi hai. ya to tumhe Sanskrit aati nahi hogi. ya fir malechha ho. agar sahi ved ka anuvad chahiye to agneever ki site pe jake dekhlo pata chal jayega. sahi kya hai or galat kya hai.

      हटाएं
  8. आपस्तम्ब धर्मसूत्र के १४,१५, और १७वें श्लोक में ध्यान देने योग्य है, "गाय और बैल पवित्र है इसलिये खाये जाने चाहिये"।
    आर्यों में विशेष अतिथियों के स्वागत की एक खास प्रथा थी, जो सर्वश्रेष्ठ चीज़ परोसी जाती थी,उसे मधुपर्क कहते थे। भिन्न भिन्न ग्रंथ इस मधुपर्क की पाक सामग्री के बारे में भिन्न भिन्नराय रखते हैं। किन्तु माधव गृह सूत्र (१.९.२२) के अनुसार, वेद की आज्ञा है कि मधुपर्क बिना मांस का नहीं होना चाहिये

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. sayad aapko ye gyat nahi hoga ki maas sabda ka Sanskrit me arth "udad" jisse hum "papad" banate hai usko kehete hai.

      hasi aati hai. aapki Sanskrit ke gyan se.

      हटाएं
    2. Bhai m bhi ek hindu hu .but mujhe ye btao ki .aryen khan se aye the.

      हटाएं
  9. प्राचीन आर्यों में जब कोई आदमी मरता था तो पशु की बलि दी जाती थी और उस पशु का अंग प्रत्यंग मृत मनुष्य के उसी अंग प्रत्यंग पर रखकर दाह कर्म किया जाता था। और यह पशु गो होता था। इस विधि का विस्तृत वर्णन आश्वालायन गृह सूत्र में है। अब इतने सारे साक्ष्यों के बाद भी क्या किसी को सन्देह है कि ब्राह्मण और अब्राह्मण सभी हिन्दू न केवल मांसाहारी थे बल्कि गोमांस भी खाते थे।

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. प्रखर मिथबस्टर दा ग्रेट14 नवंबर 2012 को 4:14 am

      अबे डाअ, क्यों नाम बदलकर लिख रहा है, बार बार वही बातें जो कहीं नहीं हैं, दिखा वह पेज आश्वालायन गृह सूत्र का... आश्वालायन गृह सूत्र का...

      हटाएं
  10. गाये हमारी माता है
    हमको कुछ नहीं आता है
    बैल हमारा बाप है
    प्रेम से रहना पाप है
    ये लोग आज अपनी माँ को तो पूछते नहीं ,, मानव को मानव नहीं समझते मगर गए का मूत पीने को तैयार रहते हैं

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. vaise aap ke dharma ke log utni ka mut pite ho. uske liye kya logic hai bhai ?

      हटाएं
  11. aaj bhi india me aur nepal hajaron aise mandir hain jahan bhaison ki bhedon ki aur murgon ki bali di jati hai.
    http://www.reuters.com/article/2009/11/25/us-nepal-sacrifice-religion-idUSTRE5AO1BT20091125
    http://www.dailymail.co.uk/news/article-1230514/Pilgrims-flock-Nepal-temple-200-000-animals-slaughtered-honour-Hindu-goddess.html

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. mandir me agar bali chadh rahi hai to who galat hai or hum uska purjor virodh karte hai. or jaha tak hamari pahonch hahi hamare yaha agar aisa hota hai to hum police complaint bhi karte hai. kyo ki hum jagrut hai. aap ki taraha nahi ki darindgi dharma mai hoti ho or usko allah ka huqum karke usko karte rahe. yehi farak hai tumme or hum me.

      हटाएं
  12. aur ye bhi dekh lo
    http://www.youtube.com/results?search_query=animal+slaughter+in+hindu+temples&oq=animal+slaughter+in+hindu+temples&gs_l=youtube.12...425.18637.0.22700.26.26.0.0.0.0.2312.14698.1j5j5j2j1j5j4j1j1j1.26.0...0.0...1ac.1.aGDRG2pa8XE

    उत्तर देंहटाएं
  13. haraami rasul ki maa ko chode suwar randi ka jana

    उत्तर देंहटाएं
  14. alla ke bare me khy likh rakha hi yhi sub tuje kay malum hi alla khe bare me jo
    galat salat likrakha hi is kamputar ke is pej mhi jo kuch bhi likha hi vo sub kucha galat hi tune bohat galat salat likarakha hi alla tala tuje bohth hi gunegar smjege tuto mafi ke layak binahi tu gunegar ......tu gunegar he alla tala ka gunegar hi

    उत्तर देंहटाएं
  15. क़ुरआन पैग़म्बरे इस्लाम (स.) का सब से बड़ा मोजज़ा है।


    हमारा अक़ादह है कि क़ुरआने करीम पैग़म्बरे इस्लाम (स.) का सब से बड़ा मोजज़ा है और यह फ़क़त फ़साहत व बलाग़त, शीरीन बयान और मअनी के रसा होने के एतबार से ही नही बल्कि और मुख़्तलिफ़ जहतों से भी मोजज़ा है। और इन तमाम जिहात की शरह अक़ाइद व कलाम की किताबों में बयान कर दी गई है।

    इसी वजह से हमारा अक़ीदह है कि दुनिया में कोई भी इसका जवाब नही ला सकता यहाँ तक कि लोग इसके एक सूरेह के मिस्ल कोई सूरह नही ला सकते। क़ुरआने करीम ने उन लोगों को जो इस के कलामे ख़ुदा होने के बारे में शक व तरद्दुद में थे कई मर्तबा इस के मुक़ाबले की दावत दी मगर वह इस के मुक़ाबले की हिम्मत पैदा न कर सके। “क़ुल लइन इजतमअत अलइँसु व अलजिन्नु अला यातू बिमिस्लि हाज़ा अलक़ुरआनि ला यातूना बिमिस्लिहि व लव काना बअज़ु हुम लिबअज़िन ज़हीरन। ”[64] यानी कह दो कि अगर जिन्नात व इंसान मिल कर इस बात पर इत्त्फ़ाक़ करें कि क़ुरआन के मानिंद कोई किताब ले आयें तो भी इस की मिस्ल नही ला सकते चाहे वह आपस में इस काम में एक दूसरे की मदद ही क्योँ न करें।

    “व इन कुन्तुम फ़ी रैबिन मिन मा नज़्ज़लना अला अबदिना फ़ातू बिसूरतिन मिन मिस्लिहि व अदउ शुहदाअ कुम मिन दूनि अल्लाहि इन कुन्तुम सादिक़ीन”[65] यानी जो हम ने अपने बन्दे (रसूल) पर नाज़िल किया है अगर तुम इस में शक करते हो तो कम से कम इस की मिस्ल एक सूरह ले आओ और इस काम पर अल्लाह के अलावा अपने गवाहों को बुला लो अगर तुम सच्चे हो।

    हमारा अक़ीदह है कि जैसे जैसे ज़माना गुज़रता जा रहा है क़ुरआन के एजाज़ के नुकात पुराने होने के बजाये और ज़्यादा रौशन होते जा रहे हैं और इस की अज़मत तमाम दुनिया के लोगों पर ज़ाहिर व आशकार हो रही है।

    इमाम सादिक़ अलैहिस्सलाम ने एक हदीस में फ़रमाया है कि “इन्ना अल्लाहा तबारका व तआला लम यजअलहु लिज़मानिन दूना ज़मानिन व लिनासिन दूना नासिन फ़हुवा फ़ी कुल्लि ज़मानिन जदीदिन व इन्दा कुल्लि क़ौमिन ग़ुज़्ज़ इला यौमिल क़ियामति। ” [66] यानी अल्लाह ने क़ुरआने करीम को किसी ख़ास ज़माने या किसी ख़ास गिरोह से मख़सूस नही किया है इसी वजह से यह हर ज़माने में नया और क़ियामत तक हर क़ौम के लिए तरो ताज़ा रहेगा।
    SUNNIKING TEAM

    उत्तर देंहटाएं
  16. हिन्दू कहता हैं मेरा धर्म अच्छा हैं और मुस्लिम कहता हैं मेरा धर्म अच्छा हैं ....सब मानवधर्म को भूल जाते हैं जबकि भेदभाव दोनों धर्मो मे हैं जो उच्च जाति के मुस्लिम हैं उनकी मस्जिदे कब्रिस्तान आदि निम्न जाति के मुस्लिमो से अलग होती हैं वैसा ही हिन्दू धर्म मे है जातपात छूआछात आदि ....दलितों को मंदिरो मे घुसने भी नहीं दिया जाता उन पर अत्याचार होता है ..

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. Bhai tune shi kha ki log hindu muslim karte rhte h. But insan ko insan nhi manta . Ye sabh devi-devta to hmi ne bnay h. Uper vale ne to insan hi bnaye the.

      हटाएं
  17. Saale Jo tune itni bakwaas khuda k bare m chheti ....tu phle ek kaam kr din or raat bnne se rokke dikha apni maut ko rokke dikha abay usko bhi chhor tu is samay ko ROK k dikha de m to tb manungi tu kitna bada teesmaarkhan h tu surf (C) type ka insaan h ya to tu bilkul pagal h ya tu halfmind h Jo din raat yeah Pablo vali baate Google PR likhta hoga vella....chhichora

    उत्तर देंहटाएं
  18. Togadya ya narendar modi ki meeting attand krk a rha h shyad Jo itni bakwaas chhet rakkhhi tune

    उत्तर देंहटाएं
  19. हिन्दू धर्म में चमार ओर ब्वाल्मिकी दोनों ही जजाती अपने मंदिरो में सूअर काटते है

    उत्तर देंहटाएं
  20. sab galat tarike se describe kia gaya hai...darm ke baare main janna hai to prachin book sab me padhe.. .yaha sirf galat information dia gaya hai....

    उत्तर देंहटाएं
  21. hum hindu birodhi nahi hai....par q islam ke baare mai galat information de kar paise kama rahe hai aap...aapko paise kamane ka itna soukh hai hindu dharm ke baare me likhiye aur paise kamayee..bohot chiz mill jaigi likh ne ke liya...bht income hoga bhai...plz try it...main ek do example bhi de sakti hu....dropadi..krisna 16000 wife..girlsfrnds..shiv vang ke nashe main

    उत्तर देंहटाएं