शनिवार, 2 अगस्त 2014

बेनामी मुस्लिम को करारा जवाब

मुझे विभिन्न  विषयों  पर लेख देते हुए  लगभग  पांच  साल  हो गए , इस दौरान  मैंने  अनुभव   किया है कि जब  लोग मेरे  अकाट्य प्रमाणों   का खंडन   नहीं  कर  पाते  और  सत्य को स्वीकार  करने में  आनाकानी  करते  हैं  , यातो  वह  लोग मूल विषयसे हट  कर दूसरी बात करने लगते हैं   . या बेनामी  बन कर  टिप्पणी  में अशिष्ट  और गालीगलौच   की भाषा   का प्रयोग  करने लगते  हैं  , खासबात यह है कि  ऐसा तभी होता है जब  इस्लाम के बारे में कोई  लेख  दिया जाता  है .मेरा  उद्देश्य  किसी  की भवन को ठेस  पंहुचाना  कदापि नहीं  रहा  , परन्तु   मैं लोगों  के सामने  प्रमाण सहित असत्य  का भंडाफोड़ करना  अपना कर्तव्य मानता हूँ  . साथ ही  अशिष्ट  और असभ्य भाषा का प्रयोग  करना मेरी दृष्टि में  महापाप   है   , यह   लेख  इसलिए  दिया  जा रहा  है  ,ताकि प्रबुद्ध  पाठक  जान  सकें  कि ,भंडाफोडू  हिंदी   का एकमात्र  ऐसा ब्लॉग  है , जिसमे  बिना किसी द्वेष और दुर्भावना   के प्रमाण  सहित सभी विषयों  पर लेख  प्रकाशित किये   जातेहैं  , यह सिलसिला  सन 2009  से  चलता आरहाहै  . इसका उद्देश्य झूठी  मान्यताओं   का भंडाफोड़ करना  है  , इसी  क्रम   में दिनाक 29 जून 2014 को ब्लॉग  में एक लेख  प्रकाशित   हुआ  था  , जिसका  शीर्षक " भंडाफोडू की  बात सच  निकली " था  . यद्यपि  इसलेख   में ऎसी  कोई   बात नहीं  थी  ,जो प्रमाण  रहित या कल्पित  हो  ,लेकिन किसी  मुस्लिम  ने  बेनामी  बन  कर कॉमेंट में जिस  भाषा  का प्रयोग  कियाहै  वह अशिष्ट  और अज्ञान    से  भरा हुआ  है ,जिस  से उन बेनामी महाशय के दिल में  हिन्दुओं  के प्रति  नफ़रत साफ़  झलकती  है  , उन  बेनामी   महोदय  ने जिस भाषा में कॉमेंट  दिया  है  , वह ज्यों  का त्यों  दिया  जारहा   है  ,
1-बेनामी ( मुस्लिम ) का  कॉमेंट 
बेनामी3 जुलाई 2014 को 11:23 pm
"sharma ji mujhe hansi aati ki appki baat ko sabit krne ke liye kis had tak ja sakte hai aur apne muh miy mitthu bante hai duniya ke har dharm ke log apne dharm ke sansthapak ko apna pita mante hai aap log to nazayaz aulad hai aap ke to teen teen baap hai bhramma vishnu mahesh jo khud ek shaitan the sri lanka is baat ka proof hai aur ab to chautha baap bhi aagya hai sai ya phir sankracharya .
btaiyye sharma ji
"शर्मा  जी  मुझे हँसी  आती  है  ,कि आपकी  बात को साबित करने के लिए किस  हद तक  जा सकते हैं ,और  अपने मुंह  मियाँ  मिट्ठू  बनते हैं   (1),दुनिया केहर धर्म के लोग अपने  धर्म  स्थापक  को अपन पिता   मानते हैं , (2)आप  लोग  नाजायज  औलाद हो  , (3)आपके तो तीन  बाप हैं   . ब्रह्मा म विष्णु  और  महेश  .(4) जो  खुद  शैतान  है  ,श्री  लंका  इसका  प्रूफ है  .(5) और अब जो  चौथा  आगया   साईँ  या शंकराचार्य ,  बताइये  शर्मा जी
2-बेनामी के कमेंट का उत्तर 
 इस कॉमेंट  की  भाषा और शैली  से  साफ  पता चलता है  कि बेनामी  जरूर  कोई ऐसे मुस्लिम  हैं  , जो बौखलाकर  बेतुकी और अशिष्ट भाषा  का प्रयोग  कररहे हैं  . यद्यपि  मैंने फेसबुक  में लोगों  से आवाहन  किया था कि है कोई  ऐसा  जो तर्क  सहित इन बेनामी  को ऐसा  करारा   जवाब  दे  जिसे पढ़ कर बेनामी चारों खाने चित हो जाएँ  . लेकिन जब  कोई आगे नहीं  आया तो मैंने ही उनको उत्तर देने का निश्चय  कर लिया  . यदि  आप  उन  बेनामी के कॉमेंट को ध्यान  से पढ़ें तो  पता  चलेगा  कि उन्होंने हिन्दू धर्म  और हिन्दुओं  पर कुल पांच आरोप लगाये  हैं  , यहाँ  पर  एक एक कर  उन पांचों  आरोपों  का कुरान और  हदीस  के प्रमाणों  से उत्तर दिया जा  रहा  , पाठक गण कृपया  पूरा लेख  जरूर  पढने का कष्ट करें।
1 . पहला  आरोप -आपने  कहा है कि हरेक धर्म  के लोग अपने धर्मस्थापक  को अपना पिता  मानते हैं
जवाब -दूसरे  धर्म  के लोग अपने धर्मस्थापक को  क्या मानते हैं ,हमें इस से कोई आपत्ति नहीं  है  हम तो हरेक बुजुर्ग  पुरुष  को पिता  और बुजुर्ग महिला को माता की तरह  सम्मान  देते  हैं  . शायद  आप  मुहम्मद साहब को पिता  मान बैठे  होगे  ,लेकिन  आपने ठीक  से कुरान नहीं पढ़ी ,क्योंकि  उसमे कहा है  .
  "हे ईमानवालो  मुहम्मद  तुम  में से  किसी  व्यक्ति के बाप  नहीं   हैं "
सूरा अहजाब 33:40 
"مَّا كَانَ مُحَمَّدٌ أَبَا أَحَدٍ مِّن رِّجَالِكُمْ "
("O believers, know that) Muhammad is not the father of any man among you"33.40.
फिर भी अगर आप मुहम्मद  साहब को बाप   मानते हो  तो कुरान के खिलाफ  काम  करने  के कारण  काफ़िर माने जाओगे  . इसलिए मुहमद्साहब को बाप मानना   छोड़  दो  .
2-दूसरा  आरोप -आपने  कहा कि तुम  लोग यानी हिन्दू  नाजायज  औलाद  हो
जवाब -नाजायज  औलाद उस  पुरुष  और स्त्री  के बच्चों  को  कहा  जाता है  जिनकी  शरीयत  के मुताबिक शादी  नहीं हुई  हो  . इस्लामी परिभाषा के मुताबिक  गैर मनकूहा    की  औलाद  अवैध (Illegitimate )   और  हरामी  कही  जाती  है , जिसे दोगले  कहा जाता   है  , शायद आपने बुखारी  की यह हदीस नहीं पढ़ी जिसमे  इब्राहिम  की दासी हाजरा  की जानकारी  दी गयी  है  , हदीस में  कहा है  ,मुसलमानों के  प्रसिद्ध  नबी इब्राहिम  को यहूदी  ,ईसाई  और मुसलमानों का मूल पिता  माना जाता है  , इनके बारे में बुखारी में यह हदीस  मौजूद है " इब्राहिम ने अपनी पत्नी  साराह  की सेवा  करने के लिए हाजरा  नामकी  एक दासी  रखी थी , एक दिन जब इब्राहिम इबादत कर रहे थे तभी हाजरा ने उनको हाथों   से इशारा  करके एकांत में बुलाया  . और कहा कि अल्लाह ने  मुझे आपके  पास  आने को कहा है ,  ताकि हम काफिरों के षडयंत्र को  विफल  कर दें  . अबु हुरैरा ने कहा कि इस घटना को सुना कर् रसूल ने मौजूद लोगों  से कहा  कि  हे बनी इस्मा  के लोगो वही  हाजरा  तुम  लोगों  की  माता  है  ,क्योंकि  उसी के पुत्र  इस्माइल  से सारी  अरब जाती  पैदा  हुई  है  "
".‏ فَأَخْدَمَهَا هَاجَرَ فَأَتَتْهُ، وَهُوَ قَائِمٌ يُصَلِّي، فَأَوْمَأَ بِيَدِهِ مَهْيَا قَالَتْ رَدَّ اللَّهُ كَيْدَ الْكَافِرِ ـ أَوِ الْفَاجِرِ ـ فِي نَحْرِهِ، وَأَخْدَمَ هَاجَرَ‏.‏ قَالَ أَبُو هُرَيْرَةَ تِلْكَ أُمُّكُمْ يَا بَنِي مَاءِ السَّمَاءِ‏.‏  "
" Hajar as a girl-servant to Sarah. Sarah came back (to Abraham) while he was praying. Abraham, gesturing with his hand, asked, "What has happened?" She replied, "Allah has spoiled the evil plot of the infidel (or immoral person) and gave me Hajar for service." (Abu Huraira then addressed his listeners saying, "That (Hajar) was your mother, O Bani Ma-is-Sama (i.e. the Arabs, the descendants of Ishmael, Hajar's son).
 सही बुखारी - जिल्द 4 किताब 55 हदीस 578
इस हदीस  से साबित होता  है कि इब्राहिम और उसकी लौंडी  में निकाह  नहीं हुआ था. और इब्राहिम ने इबादत छोड़ कर वासना में अंधे होकर  हाजरा से सहवास  किया था  , जिस से    एक नाजायज बेटा  इस्माइल पैदा हुआ  था  , जिस से मुहम्मद के बाप दादा  और  अरब के लोग  पैदा हुए ,इसलिए "सभी मुसलमान  नाजायज   औलाद   हैं "
3-तीसरा  आरोप -आपने  कहा  कि  हिन्दुओं  के तीन  बाप  हैं  , ब्रह्मा  , विष्णु  . और महेश
जवाब -लगता है कि आपने टी वी सीरियलों  से तीन  देवों  के बारे में  जानकारी  ली  है  , और उनको तीन अलग  देवता  मान  लिया  है  .  वास्तवमे ईश्वर तो एक ही है  ,लेकिन जब वह सृष्टि  करता है  तो उसे ब्रह्मा  कहते हैं  , जब  जगत  का पालन करता है तो विष्णु  कहते हैं  और जब  सृष्टि  का विलय  करता है तौ उसी  ईश्वर को महेश  कहते  हैं  , जैसे  जब  कोई नागरिक  वोट देता है तो उसे वोटर  कहतेहै  , चुनाव  लड़ता है तो उसे प्रत्याशी (उम्मीदवार )   और जीत  जाने पर  विधायक  , या  सांसद  पुकारते  हैं  .
इसलिए  आप  पहले  इस्लाम  की  पूरी  जानकारी  हासिल  करिये   कि मुसलमानोंके कितने  बाप  हैं  ?
आपका अल्लाह  सर्वशक्तिमान  नहीं  बल्कि इतना  असहाय है कि खुदही  अपनी कुर्सी पर नहीं चढ़  सकता  , औरउसे कुर्सी  पर बिठाने के लिए  आठ आठ  फरिश्तों  की  मदद   लेनी  पड़ती  है  , यह खुद कुरान  में कहा है ,

"وَالْمَلَكُ عَلَىٰ أَرْجَائِهَا وَيَحْمِلُ عَرْشَ رَبِّكَ  "


"और आठ  फ़रिश्ते  मिल कर अल्लाह को सिंहासन पर चढ़ाते  हैं  "सूरा  हाक्का 69:17

"eight will help  Allah  to climb  the throne  "Al-Haqqah69:17

यही नहीं  आपका अल्लाह छोटेछोटे कामों के लिए  दूसरों  का मोहताज   है , उसने हर काम के लिए  असंख्य नौकर ( फ़रिश्ते )  लगा रहे हैं , जिन में कुछ खास फरिश्तों के नाम और काम  इस प्रकार  हैं  .
1.जिब्राईल -अल्लाह की चिट्ठी  पत्री  लाना  और भेजना
2.इस्राफील - तुरही (Trumpet  )  बजा कर लोगों  को क़यामत की सूचना  देना
3.मीकाईल - वर्षा  यानि  पानी  की व्यवस्था  करना
4-मुनकिर और  नकीर -अपराधियों  से सवाल पूछना  ,जांच करना
5.मलिकुल मौत - लोगों  के प्राण  निकालना
6.मलिक - नरक  की चौकीदारी   करना
7.रिजवान - स्वर्ग  की  देख रेख  करना कहीं  कोई भाग  न  जाए ,या नर्कवासी  अंदर नहीं घुस  जाये

बेनामी  जी   अल्लाह के फ़रिश्ते जो  काम 14 सौ   साल से करने  लगे हैं , वाही काम हिन्दू  देवता धर्मराज , चित्रगुप्त  , वरुण  , इंद्र और शंकर लाखों साल सेकरते आये हैं।

शायद इसी लिए सभी मुसलमान"  ईमान  मुफस्सिल- ايمان مفصل"  में कहते हैं कि "आमन्तु बिल्लाहि व् मलयाकतिहि - آمنتُ با الله و مليكتهِ    "र्थात  मैं अल्लाह के साथ फरिश्तों  पर भी  ईमान  रखता हूँ। 
बताइये यदि  एक  ही ईश्वर  तीन  नामों से तीन  काम  करता है तो आप उसे हिन्दुओं  के तीन  बाप बता देते तो  , तो जब आपका अल्लाह फरिश्तों  से वही  काम  करवाता  है  ,जो हिन्दुओं  के देवता  करते हैं  . तो  मुसलमानों के असंख्य  बाप  हैं , यह  क्यों  नहीं  मना जाए ?
4-चौथा  आरोप -आपने कहा है  कि महेश यानी शंकर  खुद एक शैतान  है
जवाब -बेनामी जी  आपकी यह  बात  महज एक झूठ  के अलावा कुछ  नहीं  है , अगर  दुनिया भर के आप जैसे मुसलमान  क़यामत तक  भी कोशिश  कर लें  तो भी  वह या साबित नहीं कर  सकेंगे कि  महेश   ही शैतान  है बिना साबुत  के कुछ  भी  कहना  बेवकूफों  की आदत होती है   . क्योंकि आपको  न तो अपने   अल्लाह  के  बारे में  जानकारी  है  , और  न  शैतान के  बारे में  . हकीकत तो  यह  है  कि  आपका  अल्लाह ही  शैतान (दज्जाल )  है  . और शैतान की सबसे बड़ी  निशानी  यह है  कि  वह  काना है , यानि उसकी एक ही  आँख  है  , चाहो  तो  कुरआन   में  देख  लेना  . आपकी  जानकारी के लिए मैं अपने लेख " अल्लाह दज्जाल यानी शैतान है !!" की लिंक  दे रहा हूँ  . तसल्ली  से पढ़ लेना   और दोस्तों को पढवा देना  . शक  दूर हो  जायेगा .http://bhandaafodu.wordpress.com/2014/07/19/
https://www.facebook.com/groups/268438006618252/
5-पांचवां  आरोप -आपने  कहा कि  हिन्दुओं  का  पांचवा  देवता  साईँ  बाबा  , और शंकराचार्य  है
जवाब - जहाँ  तक  साईँ  बाबा  उर्फ़ चाँद  मियां उर्फ़  कमरुद्दीन    की  बात है तो उस  शख्श  का किरदार और ईमान  मशकूक  है   . हमारी नजर में वह  फ़ासिक़  है  , यानि  न  हिन्दू  और न  मुस्लिम  .  उसे हिन्दू धर्म  भ्रष्टक  मानते हैं  . हम  एक लाश  की इबादत को  गुनाह मानतेहैं  ,  और शकराचार्य  केवल  एक धार्मिक  गुरु हैं  . हम  उनका  सम्मान  कर  सकते हैं  , पूजा  नहीं  कर सकते .कबरपरस्ती ( Grave Worship )  -इस्लाम की परंपरा है , हम  ऐसे  लोगों को "मुलहिद "   कहते  हैं। अकेले  भारत में करीब  350  से ज्यादा  दरगाहें हैं  ,जहाँ मुस्लिम  कबरों  में दफन  लाशों   पर  सर झुकाते   हैं  . बेनामी  जी   आपसे   यही गुजारिश  है  कि पहले  अपने  घर की  गन्दगी  साफ  करो  . फिर  दूसरों  पर कीचड़ फेकने की हिमाकत  करो  . और अगर आप  सच्चे  मुसलमान  होते  तो गलियां  नहीं  देते  , आपके लिए हम  कुरान  की  यह  आयत  देते हैं  . अर्थ  आप  खुद किसी मुल्ले से पूछ  लेना ,25:63

"وَعِبَادُ الرَّحْمَٰنِ الَّذِينَ يَمْشُونَ عَلَى الْأَرْضِ هَوْنًا وَإِذَا خَاطَبَهُمُ الْجَاهِلُونَ قَالُوا سَلَامًا   "
"इज़ा ख़ातब  हुमुल  जाहिलूना  कालू  सलामा "
समझदार  के लिए इशारा ही  काफी  होता  है 

 http://www.alim.org/library/biography/stories/content/SOP/18/6/Ibrahim%20(Abraham)/Hadith%20About%20Abraham%20,%20Sarah,%20and%20Hajar
 

13 टिप्‍पणियां:

  1. satyawadi urf b.n.sharma hum hajir hain aapke sawal ke jawab dene phir se. hume yaad rkha ya bhool gaye.

    उत्तर देंहटाएं
  2. शर्मा जी ! अभिवादन आपके तर्क की कोई काट नहीं , आपने इस्लाम का सत्य उजागर कर समस्त समाज को चक्षु प्रदान करने का कार्य किया है। आपको प्रणाम ,आपके ज्ञान को प्रणाम , और इस बेनामी (मुल्ला ) की जिह्वा पर आपने बिना चाबी का ताला जड़ दिया , इस तर्क रूपी ताले को अब स्वयं इसका रसूल भी नहीं खोल सकता है। ...

    उत्तर देंहटाएं
  3. मुसलमान किसी बुत की पूजा नहीं करते, तो फिर काबे में योनीस्वरूप आकार के अंदर रखे हुए पत्थर को क्यों चुमते हैं? और सारी दुनिया के मुसलमान दिन में पाँच बार काबे के पत्थर की ओर मुँह करके अपने सिर जमीन को क्यों लगाते हैं? मुहम्मद असल में एक खुनी, दरिंदा, वहशी, छोटी लडकीयों पर बलात्कार करनेवाला, कबर में मुर्दा औरत के साथ संभोग करनेवाला बिलकुल पागल इंसान था. मुसलमान इस बात को नजरअंदाज क्यों करते हैं की, जो इंसान कबर में औरत के शव के साथ संभोग करता हो, वह मसिहा कैसे हो सकता है. वह तो एकदम पागल सिरफिरा इंसान ही हो सकता है. और सिरफिरे इंसान द्वारा रची गई किताब (कुरान) से कौनसी इंसानियत की बातें जाहिर होती हैं. क्या कोई सामान्य, स्वस्थ दिमागवाला इंसान इन बातों को कबुल करेगा? कुरान पढकर इंसान एकदम पागल, भ्रष्ट और वहशी जानवर बन जाता है. जो अच्छे-बुरे में फर्क नहीं कर सकता. कुरान पढने से सामान्य चरित्र का इंसान बनना असंभव है, उसे पढकर तो इंसान जिहादी ही बन सकता है.
    जय हिंद!

    उत्तर देंहटाएं
  4. So what about a god who even don't know about his son shrink shri shankar jisne apne hi puyr ka sir kaat DIYa tha

    उत्तर देंहटाएं
  5. apne par baat ayi to kuran ka shara lete ho mai tum se kuch sawal poochne ja rha hoo agar asli pandit ho to jwab dena
    1. agar shiv bhagwan tha to use kyo nahi maloom tha ki gadesh uska hi ladka hai
    2. agar gadesh use andar jane se rok rha tha to shiv ne andar jaane ki jid kyo ki kya kabhi apni biwi ko nanga nahi dekha tha
    3. apne hi bete ka sir kyo kaat dala
    4. kaat diya to hathi ka sir kyo lagaya science manne se inkar kar rha ki hathi ka sir admi ke sharir se nahi joda ja sakta agar andvishvasi ise chamatkar kahte hai to chamatkar to isme tha ki vahi sir fir se laga deta
    5. hindu shiv ling ko kyo poojte hai vishnu ling ko kyo nahi poojte
    ..................................................................................
    dusro ke dharm ke bare me jyada knowledge hai na tujhe pahle apne girebaan me jhaak
    beta mitti se bhagwan nahi insaan banaye jate hai magar tum logo ne to bhagwan ko mitti se bna diya badla chukaya hai kya bhagwan ka ke tumne hame banaya hm tumhe banayege

    उत्तर देंहटाएं
  6. chaliye waise mujhe mallom hai aap jhooth bahut acha bol lete hai aap darte hai ki islam jis tarah se badh rha hai khi aane wale samay me pura hindustan musalmaan na ho jaye aur aap log jo bhatke hue hindo ko loot te hai aap logpo ka to dhanda band ho jyega khair usse aap be fikr rahiye kyoki hamare nabi ne farmaya hai wo to ho kar raheyga pahle aap upar likhe sawalo ke jwab dijiye fir mai aap ko batata hoo ki sankar saitan kaise tha

    उत्तर देंहटाएं
  7. apne hadise to padi magar kewal whi hadise jinko aap tod marod kar pesh kar sakte hai mai aap ko ek hadis btata hoo
    ek baar ek sahabi ne arz kiya ya rasoollalah sallallahu alaihe wasallam aap ke chacha jaan kahte hai ki aap ki sakal saitan ki tarah hai (maazallah) aur abubakar kahte kai aap ka chehra sarapa noor hai(subhanallah) isme koun si baat sach hai to aap sallallahu alaihewasallam farmate hai ki dono baate sach hai
    sahabi ne arz kiya ya rasoollallah dono baate kaise sach ho sakti hai?
    to aap sallallahu alaihewasallam farmate hai mai to aaeena (shisha) hoo jo mujhe dekhta hai use apni hi surat dikhayi padti hai..................................................................
    wahi aap ke saath ho rha hai kabhi quran ko nabi ki mohabbat ke sath padiye jab app ko samajh me ayyega quran kya hai aur islam kya hai

    ek shayri khass aap ke liye apne dosto ko bhi sunana
    'mai to aaeena hoo dikhaoonga daag chehre ke jise bura lage samne se hat jaye

    उत्तर देंहटाएं
  8. apne hadise to padi magar kewal whi hadise jinko aap tod marod kar pesh kar sakte hai mai aap ko ek hadis btata hoo
    ek baar ek sahabi ne arz kiya ya rasoollalah sallallahu alaihe wasallam aap ke chacha jaan kahte hai ki aap ki sakal saitan ki tarah hai (maazallah) aur abubakar kahte kai aap ka chehra sarapa noor hai(subhanallah) isme koun si baat sach hai to aap sallallahu alaihewasallam farmate hai ki dono baate sach hai
    sahabi ne arz kiya ya rasoollallah dono baate kaise sach ho sakti hai?
    to aap sallallahu alaihewasallam farmate hai mai to aaeena (shisha) hoo jo mujhe dekhta hai use apni hi surat dikhayi padti hai..................................................................
    wahi aap ke saath ho rha hai kabhi quran ko nabi ki mohabbat ke sath padiye jab app ko samajh me ayyega quran kya hai aur islam kya hai

    ek shayri khass aap ke liye apne dosto ko bhi sunana
    'mai to aaeena hoo dikhaoonga daag chehre ke jise bura lage samne se hat jaye

    उत्तर देंहटाएं
  9. chaliye waise mujhe mallom hai aap jhooth bahut acha bol lete hai aap darte hai ki islam jis tarah se badh rha hai khi aane wale samay me pura hindustan musalmaan na ho jaye aur aap log jo bhatke hue hindo ko loot te hai aap logpo ka to dhanda band ho jyega khair usse aap be fikr rahiye kyoki hamare nabi ne farmaya hai wo to ho kar raheyga pahle aap upar likhe sawalo ke jwab dijiye fir mai aap ko batata hoo ki sankar saitan kaise tha

    उत्तर देंहटाएं
  10. Time nai he itna faltu warna tumhari dhajjiya kese udti tum bhi dekhte ling ke pujari sabhya bane fir rahe he

    उत्तर देंहटाएं
  11. इस्लाम को आंतकवादी बोलते हो। जापान मे तो अमेरिका ने परमाणु बम गिराया लाखो बेगुनाह मारे गये तो क्या अमेरिका आंतकवादी नही है। प्रथम विश्व युध्द मे करोडो लोग मारे गये इनको मारने मे भी कोई मुस्लिम नही था। तो क्या अब भी मुस्लिम आंतकवादी है। दूसरे विश्व युध्द मे भी लाखो करोडो निर्दोषो की जान गयी इनको मारने मे भी कोई मुस्लिम नही था। तो क्या मुस्लिम अब भी आंतकवादी हुए अगर नही तो फिर तुम इस्लाम को आंतकवादी बोलते कैसे हो। बेशक इस्लाम शान्ति का मज़हब है।और हाॅ कुछ हदीस ज़ईफ होती है।ज़ईफ हदीस उनको कहते है जो ईसाइ और यहूदियो ने गढी है। जैसे मुहम्मद साहब ने 9 साल की लडकी से निकाह किया ये ज़ईफ हदीस है। आयशा की उम्र 19 साल थी। ये उलमाओ ने साबित कर दिया है। क्योकि आयशा की बडी बहन आसमा आयशा से 10 साल बडी थी और आसमा का इंतकाल 100 वर्ष की आयु मे 73 हिज़री को हुआ। 100 मे से 73 घटाओ तो 27 साल हुए।आसमा से आयशा 10 साल छोटी थी तो 27-10=17 साल की हुई आयशा और आप सल्ललाहु अलैही वसल्लम ने आयशा से 2 हिज़री को निकाह किया।अब 17+2=19 साल हुए। इस तरह शादी के वक्त आयशा की उम्र 19 आप सल्ललाहु अलैही वसल्लम की 40 साल थी।हिन्दुओ का इतिहास द्रोपती ने 5 पांडवो से शादी की तो क्या ये गलत नही है हम मुसलमान तो 4 औरते से शादी कर सकते है ऐसी औरते जो विधवा हो बेसहारा हो। लेकिन क्या द्रोपती सेक्स की भूखी थी। और शिव की पत्नी पार्वती ने गणेश को जन्म दिया शिव की पीछे। पार्वती ने फिर किस के साथ सेक्स किया ।इसलिए शिव ने उस लडके की गर्दन काट दी क्या भगवान हत्या करता है ।श्री कृष्ण गोपियो को नहाते हुए क्यो देखता था और उनके कपडे चुराता था जबकि कृष्ण तो भगवान था क्या भगवान ऐसा गंदा काम कर सकता है । महाभारत मे लिखा है कृष्ण की 16108 बीविया थी तो फिर हम मुस्लिमो को एक से अधिक शादी करने पर बुरा कहा जाता । महाभारत युध्द मे जब अर्जुन हथियार डाल देता तो क्यो कृष्ण ये कहते है ऐ अर्जुन क्या तुम नपुंसक हो गये हो लडो अगर तुम लडते लडते मरे तो स्वर्ग को जाओगे और अगर जीत गये तो दुनिया का सुख मिलेगा। तो फिर हम मुस्लिमो को क्यो बुरा कहा जाता है हम जिहाद बुराई के खिलाफ लडते है अत्यचारियो और आक्रमणकारियो के विरूध वो अलग बात है कुछ लोग जिहाद के नाम पर बेगुनाहो को मारते है और जो ऐसा करते है वे ना मुस्लिम है और ना ही इन्सान जानवर है। राम और कृष्ण के तो मा बाप थे क्या कोई इन्सान भगवान को जन्म दे सकता है। वेद मे तो लिखा है ईश्वर अजन्मा है और सीता की बात करू तो राम तो भगवान थे क्या उनमे इतनी भी शक्ति नही थी कि वे सीता के अपहरण को रोक सके। राम जब भगवान थे तो रावण की नाभि मे अमृत है ये उनको पहले से ही क्यो नही पता था रावण के भाई ने बताया तब पता चला। क्या तुम्हारे भगवान राम को कुछ पता ही नही कैसा भगवान है ये। और इन्द्र देवता ने साधु का वेश धारण कर अपनी पुत्रवधु का बलात्कार किया फिर भी आप देवता क्यो मानते हो। खुजराहो के मन्दिर मे सेक्सी मानव मूर्तिया है क्या मन्दिर मे सेक्स की शिक्षा दी जाती है मन्दिरो मे नाच गाना डीजे आम है क्या ईश्वर की इबादत की जगह गाने हराम नही है ।राम ने हिरण का शिकार क्यो किया बहुत से हिन्दु कहते है हिरण मे राक्षस था तो क्या आपके राम भगवान मे हिरण और राक्षस को अलग करने की क्षमता नही थी ये कैसा भगवान है।हमे कहते हो जीव हत्या पाप है मै भी मानता हू कुत्ते के बेवजह मारना पाप है । कीडी मकोडो को मारना पाप है पक्षियो को मारना पाप है।

    उत्तर देंहटाएं
  12. हमे कहते हो मांस क्यो खाते हो लेकिन ऐसे जानवर जिनका कुरान मे खाना का जिक्र है खा सकते है क्योकि मुर्गे बकरे नही खाऐगे तो इनकी जनसख्या इतनी हो जायेगी बाढ आ जायेगी इन जानवरो की। सारा जंगल का चारा ये खा जाया करेगे फिर इन्सान के लिए क्या बचेगा। हर घर मे बकरे होगे। बताओ अगर हर घर मे भैंसे मुर्गे होगे तो दुनिया कैसे चल पाऐगी। आए दिन सिर्फ हिन्दुस्तान मे लाखो मुर्गे और हजारो कटडे काटे जाते है । 70% लोग मांस खाकर पेट भरते है । सब को शाकाहारी भोजन दिया जाये तो महॅगाई कितनी हो जाएगी। समुद्री तट पर 90% लोग मछली खाकर पेट भरते है। समझ मे आया कुछ शाकाहारी भोजन खाने वालो मांस को गलत कहने वाले हिन्दुओ अक्ल का इस्तमाल करो ।खैर हिन्दु धर्म मे शिव भगवान ही नशा करते है तो उसके मानने वाले भी शराबी हुए इसलिए हिन्दुओ मे शराब आम है ।डाक कावड मे ऊधम मचाते है ना जाने कितनो की मौत होती है रास्ते मे कोई मुसाफिर आये तो गाली देते है । जितने त्योहार है हिन्दुओ के सब बकवास। होली को देखलो कहते है भाईचारे का त्योहार है। पर शराब पिलाकर एक दुसरे से दुश्मनी निकाली जाती है।होली से अगले दिन अखबार कम से कम 100 लोगो के मरने की पुष्टि करता है ।अब दीपावली को देखलो कितना प्रदुषण बुड्डे बीमार बुजुर्गो की मोत होती है। पटाखो के प्रदुषण से नयी नयी बीमारिया ऊतपन होती है। गणेशचतुर्थी के दिन पलास्टर ऑफ पेरिस नामक जहरीले मिट्टी से बनी करोडो मूर्तिया गंगा नदियो मे बह दी जाती है। पानी दूषित हो जाता है साथ ही साथ करोडो मछलिया मरती है तब कहा चली जाती है इनकी अक्ल जीव हत्या तो पाप है।हम मुस्लिमो को बोलते है चचेरी मुमेरी फुफेरी मुसेरी बहन से शादी कर लेते हो। इन चूतियाओ से पूछो बहन की परिभाषा क्या होती है मै बताता हू साइंस के अनुसार एक योनि से निकले इन्सान ही भाई बहन हो सकते है और कोई नही। तुम भाई बहन के चक्कर मे रह जाओ इसलिए हिन्दु लडको की शादिया भी नही होती अक्सर । हमारे गाव मे 300 हिन्दु लडके रण्डवे है। शादी नही होती उनकी गोत जात पात ऊॅच नीच की वजह से फिर उनका सेक्स का मन करता है वे फिर लडकियो महिलाओ की साथ बलात्कार करते है ये है हिन्दु धर्म । और सबूत हिन्दुस्तान मे अमेरिका के बाद सबसे ज्यादा रेप होते है । किसी मुस्लिम मुल्क का नाम दिखा दो या बता दो बता ही नही सकते। तुम्हारे हिन्दुओ लडकियो को कपडे पहनने की तमीज नही फिटिंग के कपडे छोटे कपडे जीन्स टीशर्ट आदि पहननती है ।भाई बाप के सामने भी शर्म नही आती तुमको ऐसे कपडो मे थू ऐसे कपडो मे लडको को देखकर तो सभी इन्सानो की ऑटोमेटिकली नीयत खराब हो जाती है इसलिए हिन्दु और अंग्रेजी लडकियो की साथ बलात्कार होते हे इसके लिए ये लडकिया खुद जिम्मेदार है।।और हिन्दु लडकियो के हाथ मे सरे आम इंटरनेट वाला मोबाइल उसमे इतनी गंदी चीजे।

    उत्तर देंहटाएं
  13. तुम हिन्दु अपनी लडकियो को पढाते इतने ज्यादा हो जो उसकी शादी भी ना हो सके पढी लिखी लडकी को स्वीकार कौन करता है जल्दी से। पढने का तो नाम है घरवालो के पैसे बरबाद करती है और अय्याशी करती है। इन चूतियाओ से पूछो लडकी इतना ज्यादा पढकर क्या करेगी। मर्द उनके जनखे है जो औरत से कमवाऐगे और खुद बैठकर खाऐगे।सही कहू तो मर्दो की नौकरिया खराब करती है जहा मर्द 20 हजार रूपये महीने की मांग करे वहा लडकिया 2 हजार मे ही तैय्यार हो जाती है। सही कहू बेरोजगारी लडकियो को नौकरी देनी की वजह से है। और सालो तुम्हारा धार्मिक पहनावा क्या है साडी। जिसमे औरत का आधा पेट दिखता है। पेट छुपाने की चीज है या सबको दिखाने की बताओ । औरत की ईज्जत से खिलवाड खुद करते हो । और मर्दो क धार्मिक पहनावा क्या है धोती। जरा से हवा चलती है तो धोती एकदम उडती है। सारी शर्मगाह दिखाई देती है। शर्म नही आती तुम हिन्दुओ को। क्या ये तुम हिन्दुओ की असलियत नही है। हिन्दु गर्व के साथ कहते है कि हमारी गीता मे लिखा है कि ईश्वर हर चीज मे मौजूद है ।सब चीजे मे है इसलिए हम पत्थरो को पूजते है और भी बहुत सारी चीजो को पूजते है etc. लेकिन मै कहूगा इनकी ये सोच बिल्कुल गलत है क्योकि अगर हर चीज मे भगवान है तो क्या गू गोबर मे भी है आपका भगवान। जबकि भगवान या खुदा तो पाक साफ है तो दुनिया की हर चीज मे कहा से हुआ भगवान। इसलिए मै आपसे कहना चाहता हू भगवान हर चीज मै नही है बल्कि हर चीज उसकी है और वो एक है इसलिए पूजा पाठ मूर्ति चित्र सब गलत है।कुरान अल्लाह की किताब है इसके बताये गये रास्ते पर चलो। सबूत भी है क्योकि कुरान की आयते पढकर हम भूत प्रेत बुरी आत्माओ राक्षसो से छुटकारा पाते है।हमारी मस्जिद मे बहुत हिन्दु आते है ईलाज करवाने के लिए । और मौलवी कुरान की आयते पढकर ही सभी को ठीक करते है । इसलिए कुरान अल्लाह की किताब है । जबकि आप वेदो मंत्रो से दसरो को नुकसान पहुचा सकते है अच्छाई नही कर सकते किसी की और सभी भगत पंडित जादू टोना टोटके के अलावा करते ही क्या है। जबकि कुरान से अच्छाई के अलावा आप किसी के साथ बुरा कर ही नही सकते। इसलिए गैर मुस्लिमो कुरान पर ईमान लाओ।

    उत्तर देंहटाएं