रविवार, 8 मार्च 2015

बलात्कार के रोग का दीमापुरी इलाज !

अगर भारत को       बलात्करिओं    की  जन्नत कहा    जाए  तो अतिश्योक्ति    नहीं   होगी   , क्योंकि  नेशनल  क्राइम रिकॉर्ड  ब्यूरो  के  अनुसार भारत में औसत प्रतिदिन    सात   से   दस    बलात्कार  की  घटनाये   होती  हैं   , और  उनके  बारे  में  अखबार  या  जो  टीवी   में  खबरें   प्रसारित की   जाती हैं   उन्हें  पढ़  और  देख   कर    , लोग  यातो  उसकी  निंदा    करके   अपना  कर्तव्य   पूरा    मान   लेते   है   . या  फिर कुछ   ऐसे   संगठन  पैदा  हो जाते हैं  ,  जो  अपना  नाम    करने    के  लिए   धरना   ,  प्रदर्शन और  केंडल   मार्च   निकाल देते   , जबकि   उनको  होता  है  कि  वर्त्तमान   न्याय   प्रणाली   के  चलते पीड़िता  को  इन्साफ   मिलने    अपराधी को   सजा   मिलने  में बरसों   लग   जायेंगे   ,
लेकिन  अधिकाँश     इस  महत्त्व पूर्ण    बात   पर गौर  नहीं  करते  कि  बलात्कार  की संख्या  दिनों    दिन  क्यों  बढ़  रही  हैं   , और   इनको रोकने  का   अचूक   उपाय   क्या     है ?

1-बलात्कार   का असली  कारण  इस्लाम 
यदि   बलात्कार    की  सभी  घटनाओं   का सूक्ष्म   विश्लेषण    किया   जाये तो  आपको   पता   चलेगा  कि  अधिकांश  बलात्कारी  मुस्लिम  ही   निकलेंगे,और  मुसलमान  बलात्कार   को  गुनाह   नहीं  अपना  अधिकार  मानते   हैं   ,
मैं   इस  लेख  के    माध्यम माध्यम   से  सभी  मुल्ले   ,मौलवी  और  मुसलमानों  को  खुली  चुनौती देता हूँ  कि  वह कुरान की  एक   भी ऎसी  आयात  दिखा  दें  , जिसमे   बलात्कारी  पुरुष   को किसी  भी  प्रकार    की सजा  देने  का   हुक्म     हो , कुरान  में बलात्कारी  को  सजा  देने का  आदेश   नहीं  है  (  the punishment for rape doesn't exist in the  Quran  ) यही  कारण है   जिस से  मुसलमान  ,  हिन्दुओं  को  अपमानित   करने  , देश   में  अफरा  तफरी  फ़ैलाने  . प्रतिशोध   के लिए  ,और रसूल की  सुन्नत   का पालन   करने   के  लिए  निडर   होकर   बलात्कार    करते  रहते हैं   . और उनके  दिलों   में  इस   अपराध   के लिए  कोई पछतावा   भीनहीं  होता
2-दूसरा   कारण  न्याय  प्रणाली 
भले   ही  अदालत में लिखा  रहता   है  "सत्यमेव  जयते "अर्थात  सत्य    ही  विजयी  होता   है   , यह  सिर्फ  कहने की   बात है    , क्योंकि  अदालतों  में  सत्य   की  नहीं  वकील   की  जीत  होती   है   , जो   अपने  कुतर्कों  से  मामला    बरसों   तक  लटका  देता   है  .  इस से  फैसला होने तक   पीड़िता  का  गरीब   परिवार  कंगाल  हो   जाता   है  . न्याय   में  देरी  और  अपरधि  के बच  जाने  से  लोगों   में  न्याय  व्यवस्था  पर   विश्वास  उठ   गया है  ,

3-बलात्कार  रोकने  का सही  उपाय  

बलात्कारी   को  जेल  भेज  देने  से  बलात्कार   की  घटनाएँ  कम   नहीं   हो सकती   ,  इसके लये  हमें   निडर  होकर   वाही   काम   करने की  जरूरत  है  जो   नागा  लैंड  के  दीमापर   निवासियों   ने  बंगला  देशी   मुस्लिम  बलात्कारी  के   साथ  किया   है   ,    यह   खबर  सभी  अखबारों  और चैनलों   में  मौजूद   है    पूरी  खबर   इस प्रकार   है .
 "गौरतलब है कि पुलिस के मुताबिक 23 फरवरी को खान नाम के एक व्यक्ति ने एक नागा समुदाय की एक लड़की के साथ कई बार दुष्कर्म को अंजाम दिया था। जिसके बाद उसके खिलाफ मामला दर्ज किया गया। ,आरोपी की पहचान 35 वर्षीय सयद फरीद खान के रूप में हुई है और जोकि सैकेंड हैंड कार डीलर था। बताया जा रहा है कि वो असम प्रवासी था, लेकिन मूल रूप से बांग्लादेश का था। नागालैंड के दीमापुर में गुस्साई भीड़ ने रेप के एक आरोपी को जेल से निकालने के बाद उसकी पीटपीट कर हत्या कर दी। भीड़ ने आरोपी को गुरूवार तकरीबन छह बजे घसीट कर बाहर निकाला और फिर भीड़ ने उसे सड़क के एक चौक पर फांसी लगा दी। वहीं भीड़ को हटाने के लिए पुलिस ने फायरिंग की, जिसमें तकरीबन 20 लोग घायल हो गए हैं . गृह मंत्रालय के मुताबिक घटना शाम चार बजे की है। एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया है कि, जेल को स्थानीय पुलिस और जेल गार्ड्स गार्ड कर रहे थे, लेकिन वो उस आरोपी को बचा नहीं सके .डिप्टी कमिश्नर वेजोप केन्ये का कहना है कि दीमापुर में तनाव का माहौल बढ़ता जा रहा है।
क्षेत्र में काफी तनाव फैल गया। मामले को देखते हुए क्षेत्र में धारा 144 लगा दी गई, लेकिन इसके बावजूद पुलिस भीड़ को काबू में नहीं कर पाई।दूसरी तरफ नागालैंड पुलिस ने गृह मंत्रालय से और फोर्स भी मांगी है और आर्मी को भी अलर्ट कर दिया गया है।


http://www.patrika.com/news/crime/nagaland-mob-lynches-rapist-after-dragging-him-out-of-dimapur-jail-1006682/#sthash.1V7zveN4.dpuf

4- हिन्दुओ   कायरता   छोडो 

 आज  इस   बात   की  जरुरत   है कि  सभी हिन्दू    दीमापुर  की  इस घटना   से  प्रेरणा   लेकर   हर प्रकार  का  डर  और कायरता   छोड़  दें   , और विदेशी  अपराधी को   खुद  आगे  ऐसी   सजा  दें   ,   तभी   भविष्य में किसी  को सपने में भी  बलात्कार  करने  का विचार   नहीं  आये   , पुलिस  का डर जनता की  के सामने    बेकार   है   , अकबरुद्दीन  ओवैसी ने आदिलाबाद   जिले   के  न निरमल  नाम की  जगह पर दिनांक  2  जनवरी 2013 को  सरकार को  चुनौती  दी थी  कि  अगर  15  मिनट   के   लिए  सरकार  पुलिस हटा  दे  तो   मुसलमान   भारत  के  लाल किले  पर  इस्लामी हरा  झंडा   फहरा  देंगे   ,
विडिओ  देखिये 
Akbaruddin owaisi hate speech against Hindus Part 1

https://www.youtube.com/watch?v=4J-FuI7yA8Q


सोचिये  जब  पुलिस  होते  हुए भी  दिमापुर में  मुस्लिम  बलात्कारी   को  खुले  आम  फांसी  दे दी गयी  तो  , सब   सभी  हिन्दू  एक  हो जेएंगे तो  फ़ौज भी  मुसलमान  दुष्टों  की  रक्षा नहीं   कर  पायेगी .आखिर   हमें   किसका  डर  है    ,हम   भारत   माता   के  पुत्र   है  ,  यदि  हम  खुद  माता   के  शत्रुओं   को   नहीं   मरेंगे  ,तो  क्या  दुष्टों  को मारने  के लिए मंगल ग्रह से  फ़ौज  आएगी  ?

गीता   का  साफ  आदेश  है  "विनाशाय  च  दुष्कृताम "

11 टिप्‍पणियां:

  1. SALE KHUDKO SATYAVADI KEHTA HIA SATYAVADI KA MATLAB BHI PATA HAI KYA TUZE KUTTE ????????

    TUNE TO HADD KAR DI YAR! JESE TUNE THEKA LE RAKHA HAI ISLAM KO BADNAM KARNE KA TU AESE KESE BOL SAKTA HAI KI RAPIST SIRF MUSLIM HAI HINDU O KO KYA --------- HAI HI NAHI ????????? YA WO SAB DHUDH SE DHULE HAI ??????? SALE TUMHARE BHAGWANO KE HI NA JANE KITNI RABHAYE, URWASHI ETC NACHAN LAGTE THE TUMHARE GRANTHO KE ANUSAR......... HUMKO TO INSAB PAR YAKIN NAHI ...... HA AB RAHI SIRF MUSALMAN RAPIST HONE KI TU BAT KAR RAHA HAI TO SUN TUZE HINDU RAPIST KI NEWZ KABHI MILI HI NAHI YA TUNE KABHI PADHANI NAHI CHAHI ?????? AUR TERE JANKARI KE LIYE BATADU KE ISLAM ME JYADA SHADIYO KI ISSILIYE IZAZAT DI HUI HAI KI RAPE NA HO KYU KI AJKAL TO SHADISHUDA HOTE HUYE BHI ADAMI KE KITANE CHAKKAR LAFDE HOTE HAI WO BAHAR MUH NA MARE ISSLIYE USKO DUSRI SHADI KARNE KI ISLAM IZAZAT DETA TUMHARE JESA NAHI KE JAO MUH MARTE FIRO.......
    OR AB SUN KUTTE KI TARHA BHONKNA BAND KARDE ...........

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. Abe madarchod katuye , saale tu pahale kuran ko thik se padhke samajh,duniya ki sabse gandi, behudi, khuni kitab me kewal hinsa aur bewkufi ke siwa kuchh bhi nahi hai, aaj saari duniya ke kund dimaag mahamurakh katuye jo kohram macha rahe hain, wo sab us madarchod kutte muhammad ke dwara likhi gayi is ghinouni kitab ki wajah se hi ho rahe hain, muhammad naam ka wo narpishach agar paida na huwa hota to aaj duniya me itne khun kharabe aur balatkar nahi hote. saale madarchod katuye , Google me hi kuran naam ki us kitab kaa Hindi translation mil jayega, padh ke dekh saale, andhe, usme insaan ko darinda banane ki sikh ke alawe kuchh bhi nahi hai.

      हटाएं
  2. are kutte tuze kya pata kuraan ke bare me ki usme kya likha hai or kya nahi agar sachme tune pura kuraan samza hota to tu aesi bat nahi karta or tu musalman ban chuka hota khud apne marzi se muslman ban jata ...........

    ab sun mudde ki bat par aate hai !!!! kya tuze pata hai kuraan me zindakari karne wale ko pattharo se mar mar kar jan lene ka hukm hai or ZINAKARI KA ASLI MATLAB HAI APNE HUSBOND YA BIWI KE ALAWA KISI OR SE SHARIRIK SAMBHANDH BANANA !!!!!!! OR AGAR KOI SHADISHUDA AESA KARTA HAI TO USKO PATTHAR SE BHARE BAJAR ME SABKE SAMNE PATTHAR MAR MAR KAR MAR DALNE KA HUKM HAI !!!! OR AGAR KOI BAGAIR SHADI SHUDA HAI YANE KUNVARE AESA KARTE HAI TO UNKO SOU KODE LAGANE KA HUKM HAI OR UNKA NIKAH KARA DENE KA HUKM HAI SAMZA !!!! PEHLE KURAAN KO SAMAZ FIR BHONK KUTTE KI TARHA NA BHONKA KAR BE MATLAB KE ........... OR JA JAKAR YOU-TUB PAR SEARCH TOOL ME DAL KI PUNISHMENT OF RAPIEST IN SAUDI ARAB DEKH AANGA KE RONGTE NA KHADE HO JAYE TO BOL KAMINE ............. ISLAM KE BARE ME KUCHH BHI BAKA MAT KAR ..............

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. Abe madarchod katuye , saale tu pahale kuran ko thik se padhke samajh,duniya ki sabse gandi, behudi, khuni kitab me kewal hinsa aur bewkufi ke siwa kuchh bhi nahi hai, aaj saari duniya ke kund dimaag mahamurakh katuye jo kohram macha rahe hain, wo sab us madarchod kutte muhammad ke dwara likhi gayi is ghinouni kitab ki wajah se hi ho rahe hain, muhammad naam ka wo narpishach agar paida na huwa hota to aaj duniya me itne khun kharabe aur balatkar nahi hote. saale madarchod katuye , Google me hi kuran naam ki us kitab kaa Hindi translation mil jayega, padh ke dekh saale, andhe, usme insaan ko darinda banane ki sikh ke alawe kuchh bhi nahi hai.

      हटाएं
    2. abe pehle tu khud pad or sun yaha waha padhne se achha ahi ki tu khud tuze jo translation me samze wo kharid fir bata ki sachme waha khun kharaba ki bate likhe hai ya kya likha hai.... kisi ki bato ko sunkar kuchh mat soch uss kuraan pak jesi kitab shayad hi tuze mile uss jaisi koi kitab hi nahi he .....
      ACHHA BHAI EK BAT BATA AGAR SACHME USME AESA LIKHA HOTA TO AJAKAL SARE VIDESHI , CHRISTEN ETC JO BHI MUSALMAN HO RAHE HE WO SIRF KURAAN PAK KO PADHAKAR HO RAHE HE TO KYA UNKO KHUNI BANNA HE YA TERERIST BANNNA HAI JO WO KURAAN PADH RAHE HE ??????? TUM LOG KURAAN PAK KE BARE ME KYA JANTE HO????? KABHI PADHKAR TO DEKHO OR SAMZKAR DEKHO MUSALMAN NA HO JAO TO KEHNA ......... CHELLENGE FOR U............ KURAAN ME LIKHA GAYA HAI KI AGAR KOI EK MASUM KA KHUN BAHAYE TO USNE JESE PURE INSANIYAT KA KHUN KIYA HAI !!!!!!! TOU BHAI BATAO KI HUM LOG KHUNI KESE HO SAKTE HAI ....... KOI BHI DHARM HO WO MASUM KA KHUN BAHANE KO NAHI KEHTA HAI ...... MERE BHAI GOUR KARNE KI BAT HAI KI YE BHANDAFODU JO HE WO SIRF OR SIRF AAG LAGANE KI KOSHISH KAR RAHA HAI TAKI ISKO FAME MILE OR ISKA BLOG BADHTA JAYE OR ISLAM KE BARE ME YE KUCHH BHI LOGO KE DIMAGH ME DALE OR ZAGDE FASAD BADHAYE........ BEHTAR HOGA KI AAP PEHLEL KURAAN KO PADHE SAMZE OR FIR KAHE ......... KU KI KABHI KABHI AANKHO DEKHA BHI ZUTH HOTA HAI TOU KISI KE BAT PAR AAP KU KAR BHAROSA KARE ?????? APKO AANKHE DI HAI APKO LIKHAN AATA HAI TO PADHNA BHI AATA H I HOGA HE NA TO MERI APSE REQUEST HAI KI AAP KHUD KURAAN KO EK BAR PADHKAR DEKHO OR SAMZO FIR APKO USME GALAT LAGE TO BESHAK AAP JO CHAHTE HO KAHO PAR HA EK SHART HAI PURA PADHNA OR SAHI SAMZNA AGAR KUCHH NA SAMZE TO YAHA MUZSE PUCHH SAKTE HO ME COMMENT CHEK KAR HUMESHA ...... UMMID HE AAGE SE AAAP KUCHH BHI GALAT KEHNESE PEHLE SOCHOGE ....... SHUKRIYA

      हटाएं
    3. 1-.मुसलमानों का दावा है कि कुरान अल्लाह की किताब है ,लेकिन कुरान में बच्चों की खतना करने का हुक्म नहीं है , फिर भी मुसलमान खतना क्यों कराते है ? क्या अल्लाह में इतनी भी शक्ति नहीं है कि मुसलमानों के खतना वाले बच्चे ही पैदा कर सके ?और कुरान के विरद्ध काम करने से मुसलमानों को काफ़िर क्यों नहीं माना जाए ?

      2-मुसलमान मानते हैं कि अल्लाह ने फ़रिश्ते के हाथो कुरआन की पहली सूरा लिखित रूप में मुहम्मद को दी थी , लेकिन अनपढ़ होने से वह उसे नहीं पढ़ सके , इसके अलावा मुसलमान यह भी दावा करते हैं कि विश्व में कुरान एकमात्र ऐसी किताब है जो पूर्णतयः सुरक्षित है , तो मुसलमान कुरान की वह सूरा पेश क्यों नहीं कर देते जो अल्लाह ने लिख कर भेजी थी , इस से तुरंत पता हो जायेगा कि वह कागज कहाँ बना था ? और अल्लाह की राईटिंग कैसी थी ?वर्ना हम क्यों नहीं माने कि जैसे अल्लाह फर्जी है वैसे ही कुरान भी फर्जी है

      3. इस्लाम के मुताबिक यदि 3 दिन/माह का बच्चा मर जाये तो उसको कयामत के दिन क्या मिलेगा.-जन्नत या जहन्नुम ? और किस आधार पर ??
      4. मरने के बाद जन्नत में पुरुष को 72 हूरी (अप्सराए) मिलेगी...तो स्त्री को क्या मिलेगा...... 72 हूरा (पुरुष वेश्या) .??और अगर कोई बच्चा पैदा होते ही मर जाये तो क्या उसे भी हूरें मिलेंगी ? और वह हूरों का क्या करेगा ?

      5.- यदि मुसलमानों की तरह ईसाई , यहूदी और हिन्दू मिलकर मुसलमानों के विरुद्ध जिहाद करें , तो क्या मुसलमान इसे धार्मिक कार्य मानेंगे या अपराध ? और क्यों ?

      6-.यदि कोई गैर मुस्लिम (काफ़िर) यदि अच्छे गुणों वाला हो तो भी. क्या अल्लाह उसको जहन्नुम की आग में झोक देगा....? और क्यों ?और, अगर ऐसा करेगा तो.... क्या ये अन्याय नहीं हुआ ??

      7.कुरान के अनुसार मुहम्मद सशरीर जन्नत गए थे , और वहां अल्लाह से बात भी की थी , लेकिन जब अल्लाह निराकार है , और उसकी कोई इमेज (छवि) नहीं है तो..मुहम्मद ने अल्लाह को कैसे देखा ??और कैसे पहिचाना कि यह अल्लाह है , या शैतान है ?
      8- मुसलमानों का दावा है कि जन्नत जाते समय मुहम्मद ने येरूसलम की बैतूल मुक़द्दस नामकी मस्जिद में नमाज पढ़ी थी ,लेकिन वह मुहम्मद के जन्म से पहले ही रोमन लोगों ने नष्ट कर दी थी . मुहम्मद के समय उसका नामो निशान नहीं था , तो मुहम्मद ने उसमे नमाज कैसे पढ़ी थी ? हम मुहम्मद को झूठा क्यों नहीं कहें ?

      9-.अल्लाह ने अनपढ़ मुहम्मद में ऐसी कौनसी विशेषता देखी . जो उनको अपना रसूल नियुक्त कर दिया ,क्या उस समय पूरे अरब में एकभी ऐसा पढ़ालिखा व्यक्ति नहीं था , जिसे अल्लाह रसूल बना देता , और जब अल्लाह सचमुच सर्वशक्तिमान है , तो अल्लाह मुहम्मद को 63 साल में भी अरबी लिखने या पढने की बुद्धि क्यों नहीं दे पाया

      10.जो व्यक्ति अपने जिहादियों की गैंग बना कर जगह जगह लूट करवाता हो , और लूट के माल से बाकायदा अपने लिए पाँचवाँ हिस्सा (20 %० ) रख लेता हो , उसे उसे अल्लाह का रसूल कहने की जगह लुटरों का सरदार क्यों न कहें ?

      नोट- यह प्रश्नावली भंडाफोडू ब्लॉग के लेखों से चुन कर बनायी गयी है , जो पिछले 7 सालों से इस्लाम के नाम पर होने वाले आतंक और हिन्दू विरोधी जिहाद का भंडा फोड़ करता आया है . इन लेखों का उद्देश्य इस्लाम की असलियत लोगों को बताना है , क्योंकि इस्लाम धर्म नहीं एक उन्माद है , जो विश्व के लिए विशेष कर भारत के लिए खतरा है . पाठकों से निवेदन है कि वह भंडाफोडू ब्लॉग और फेसबुक में इसी नाम के ग्रुप के लेखों को ध्यान से पढ़ें , और उनका प्रचार प्रसार करें . इनकी लिंक दी जा रही है


      हटाएं
    4. मुर्ख मुल्ले,तुम जैसों मुसलमानों के दिमाग को मुल्ले मौलविओं ने कुंद बनाकर
      रख दिया है, इसीलिए तुम सब आखों के अंधे हो, इस्लाम की गंदी सच्चाई सारी
      दुनिया में दिखाई पड़ने के बावजूद भी तुम मूर्खों को दिखाई नहीं पड़ती, अबे
      आँखों के अंधों, तुम सबूत मांगते हो , यहाँ देखो, इस्लाम की पोल कोई गैर
      मुस्लिम नहीं बल्कि इरान जैसे कट्टर मुस्लिम देश का एक Ex Muslim ही खोल रहा
      है, जिसका नाम अली सीना है, जिसने बचपन से ही इस्लाम जैसे बेहुदे ,खुनी, गंदे
      विचारधारा को कभी भी नहीं माना, जिसके लिए उन्हें कई -कई बार इमामों और
      मौलविओं के कोप का शिकार होना पड़ा,जवान होकर पहले तो देश त्याग दिया, फिर
      इस्लाम को घृणा के साथ थूक कर त्याग दिया और दुनिया के विवेकशील और बुद्धिमान
      मुसलामानों की आँखें खोलने और इस्लाम से बाहर निकलने के लिए प्रेरित करने के
      लिए एक बेहद प्रभावशाली वेबसाइट बनाया, जिसके जरिये सारी दुनिया में आज तक
      लाखों मुस्लिम इस्लाम त्याग चुके हैं और बड़ी तेजी से लाखों की संख्या में
      इस्लाम त्याग रहे है | मै यहाँ उस वेबसाइट का लिंक दे रहा हूँ, इसे अच्छी तरह
      से पढ़ ले,उसने अपने इस वेब साईट के जरिये ही सारी दुनिया के मुल्लों को चैलेंज
      भी किया है कि जो कोई भी उनकी बातों को गलत साबित करके दिखा दे , उसे वे पचास
      हजार अमेरिकी डॉलर देंगे, पिछवाड़े में दम है तो तू उन्हें ही साबित करके दिखा :
      http://www.faithfreedom.org/
      हमारे पेज का प्रभाव अब मुसलमानों के ऊपर पड़ने लगा..अब उनको भी जानकारी होने लगी कि इस्लाम विदेशी मजहब है..तेजी से हिन्दू बन रहे है..
      इन महोदय को देखिये --दिनांक 3 मार्च 2014 को बाकायदा समाचार पत्र में फोटो सहित विज्ञापन देकर खलीलउल्ला खां खैशगी से अब हिन्दू वैदिक नाम कृष्णकांत खैशगी रख लिए है.और हिन्दू बन गए..पढ़े लिखे और पेशे से एडवोकेट भी है..
      ये सभी पढ़े लिखे मुस्लिमो से अपील कर रहे है कि जल्दी से विदेशी मजहब इस्लाम छोडो..अपने पूर्वजो के हिन्दू धर्म में वापस आओ--
      आप चाहे तो इनसे संपर्क कर सकते है..फेसबुक पर भी इनका एकाउंट है..या म.प्र.जाकर इनसे मिलकर हिन्दू बन सकते है...
      मुसलमानों अरबी मुहम्मद से डरने की जरुरत नहीं है..अब वह मर चूका है..अब भारत आजाद हो चूका है...
      हिन्दू धर्म में वापस आने के लिए कृष्णकांत जी का स्वागत आप सभी लोग करिए...

      हटाएं
    5. ปน้ร เอรทำ ารดก รน
      กานาด

      हटाएं
  3. मित्रों, जिस कटुए ने ऊपर के ये गंदे वेब लिंक पोस्ट किया है वो 100 % एक सच्चा मुसलमान है, क्योंकि इस्लाम नाम के जघन्य मजहब को बनाने वाला खुद मुहम्मद दुनिया का सबसे बड़ा चरित्रहीन, वहसि, कामुक शैतान था जिंदगी भर असंख्य नारिओं का बलात्कार किया, उसके दिमाग में सिर्फ वासना ही वासना भरी हुई थी,54 साल की उम्र में 6 साल की एक मासूम को भी नहीं बख्सा ,अपने मुँहबोले बेटे की पत्नी तक को नहीं छोड़ा ,यहाँ तक कि उस हरामजादे ने इस्लाम में अपनी चचेरी, ममेरी, फुफेरी बहनों तक को भोगने की इजाजत दे डाली, सिर्फ यही नहीं इस्लाम में अगर दो सगे भाई बहन किसी कारणवश अपनी माँ का दूध नहीं पिया हो तो वे भी आपस में सम्भोग कर सकते हैँ , जाहिर है उस हरामी ,बलात्कारी के अनुयायी भी उसी की तरह कामुक, चरित्रहीन ही होंगे और जहाँ भी रहेंगे सिर्फ गन्दगी ही गन्दगी फैलाएंगे ,ये कुत्ते के औलाद तो मनुष्य को काम,क्रोध,लोभ,मोह और अहंकार से मुक्ति दिलाकर पवित्र जीवन जीने के लिए हिन्दू धर्म में दिए जाने वाले महान उपदेशों जैसे सामग्री तो पोस्ट कर ही नहीं सकते क्योंकि जिसके पास जो चीज या सामग्री है ,वह वही दूसरों को बाँट सकता है, इन नीच ,गंदे नाली के कीड़ों से तो ऐसे ही पोस्ट उम्मीद किये जा सकते हैं, क्योंकि ये रंडी का औलाद सही में एक सच्चा मुसलमान है।

    उत्तर देंहटाएं
  4. मुझे जरा भी शक नहीं , जिस कटुए ने ऊपर के गंदे वेब लिंक्स पोस्ट किया है , जरूर वह उन साइटों में दिखाए गए रण्डिओं में से किसी एक का नाजायज पैदाइस होगा जिसके बाप का कोई अता पता नहीं,इसीलिए वह गंदे नाली का कीड़ा अपनी रंडी माँ और उसके साथियों का पोर्न साईट बड़े ईमानदारी के साथ प्रचार प्रसार कर रहा है।

    उत्तर देंहटाएं