मंगलवार, 7 जुलाई 2015

मुस्लिम पर्सनल बोर्ड जवाब दे ?

दुर्भाग्य की   बात  है  कि  सैकड़ों   साल  तक  मुसलमानों    की  गुलामी   में  रह  कर  ,,  आजादी के  बाद  कांग्रेसी   अन्न  खाकर और  सेकुलर  शिक्षा  के कारण  हिन्दू  और   हिन्दू  संगठन   इस  बात   को  स्वीकार   करने    से   डरते  हैं  ,कि   हर  मुसलमान    में   हिन्दू  धर्म   ,   संस्कृति   , और  हिन्दुओं  की  आस्था   के प्रति   नफ़रत   कूट  कूट   कर  भरी   है  .,यद्यपि  मुसलमान    हिन्दुओं   को  धोखा  देने के लिए   सेकुलररिज्म  की वकालत  करते   रहते  हैं .  लेकिन   जब   भी  उनको  मौका   मिलता   है   किसी   न  किसी   बहाने हिन्दू  आस्था  और    धर्म  के खिलाफ  खड़े   हो   जाते   है   . सामान्य  नागरिक  संहिता  ,  वन्दे  मातरम  .   गौहत्या प्रतिबन्ध     जैसे  विषय   इसके  उदहारण    है   ,  ताजा  उदहारण  "   योग  " है   .  ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड ने राजग सरकार पर धर्मनिरपेक्ष भारत के संविधान का उल्लंघन करने और योग तथा सूर्य नमस्कार जैसी चीजें शुरू करके आरएसएस के एजेंडा को लागू करने का आरोप कि योग और सूर्य नमस्कार हिंदू धर्म की धार्मिक गतिविधियां हैं और यह ‘‘मुसलमानों की विचारधारा के खिलाफ लगाते हुए करारा हमला किया और मुस्लिम समुदाय के सदस्यों से ‘चौकन्ना’ रहने को कहा।बोर्ड के कार्यकारी महासचिव मौलाना वली रहमानी ने लिखा है। रहमानी ने कहा कि इसके खिलाफ आंदोलन चलाने की जरूरत है और इस मसले पर तमाम मस्जिदों में जुमे की नमाज से पहले चर्चा होनी चाहिए।बोर्ड   ने  एक  प्रेस  नोट   जारी  किया   जिसमे  कहा  है  ,कि मुसलमानों को चौकन्ना रहना चाहिए क्योंकि ऐसे संगठन हैं जो इस्लामी मान्यताओं पर हमला कर रहे हैं। उन्होंने मौलवियों से कहा कि वह शुक्रवार की नमाज के वक्त इन मुद्दों पर बात करें और मुस्लिम समुदाय को आंदोलन के लिए तैयार करें।यह  पत्र  उर्दू   में   है   ,  जिसका शीर्षक   है
,बिरहमानि  धर्म वैदिक कल्चर से  अकीदेये तौहीद का   बराह  रास्त टकराव   है

यह  पत्र  दिनांक  16/06/2015 को  जारी  हुआ  था .पत्र में कहा गया है,मुसलमानों को यह याद रखना चाहिए कि देश में ऐसे लोग हैं जो उनके हुकूक छीन लेना चाहते हैं।

http://aimplboard.in/press-release.php

मुस्लिम  पर्सनल  लॉ बोर्ड  ( AIMPLB )    के इस  पत्र  से   साफ  पता  चलता  है  कि  मुसलमान  योग    के  बहाने   हिन्दुओं   से  टकराने   की  योजना  बना  रहे  हैं  , क्योंकि   योग  वैदिक  संस्कृति   की  देन  है , किसका विरोध  करना मुसलमान अपना  फर्ज   मानते हैं। हम  उन  सभी   मुसलमानों  और  खासतौर  से  मुस्लिम  बोर्ड  के  उन लोगों से  पूछना  चाहते   हैं   ,जो  वैदिक   संस्कृति   से   सम्बंधित  हरेक  बात का विरोध   करते   हैं   ,  बताएं  क्या  उनमे इन 6  विषयों  का  विरोध   करने  की  हिम्मत   है  ?याद रखिये  कि पहली  पांच  चीजों   का  अविष्कार  भारतके  विद्वानों   ने  किया  जिनका  उपयोग   सभी    कर  रहे  हैं   , योग की  तरह इनका  धर्म  से कोई सम्बन्ध   नहीं   है   ,


1-स्थानीय  मानप्रणाली और शून्य 


आर्यभट (476-550) प्राचीन भारत के एक महान ज्योतिषविद् और गणितज्ञ थे। इन्होंने आर्यभटीय ग्रंथ की रचना की जिसमें ज्योतिषशास्त्र के अनेक सिद्धांतों का प्रतिपादन है,इसमे इसमे स्थानीय  मानप्रणाली और शून्य (Place value system and zero)का   वर्णन    है   ,  इसे  अरबी  में "निजामुल  कीमत अल   मकानियः वल सिफर  - نظام القيمة المكانية وصفر   " कहते   हैं ,सन 786  में  खलीफा "अबू  जफ़र  अब्दुल्लाह  मामुन -   ابوجعفر عبدالله مامون‎ "के समय ईरानी गणतिज्ञ ख्वारज़मी  ने संस्कृत   ग्रंथों  का अरबी  अनुवाद  किया  ,  और  अरब    के लोगों  को   शून्य  और  गिनती  का  सही तरीका  सिखाया ,  यह  भी  वैदिक     संस्कृति  की   देन  है  , आज  भी  मुसलमान  कुरान  की  सूरा  और  आयतों का  नंबर  इसी  प्रणाली   से    देते  हैं


2-यूनानी   चिकत्सा  विधि   

 भारत  ,पाकिस्तान  और   अन्य   मुस्लिम   देशों   में इलाज  करने   के लिए   यूनानी    विधि   प्रचलित   है   ,जिसे "तिब्बे  यूनानी - طب یونانی "  कहा जाता  है   , इस  विधि की  खोज सन 980  में  अबी  सीना   नामके  अरब चिकित्सक  ने  की  थी   . इसका  पूरा   नाम "अबू  अली  हुसैन इब्न अब्दुल्लाह  इब्न  सीना - أبو علي الحسين ابن عبد الله ابن سينا"  है  , इसने     महर्षि  सुश्रुत  और चरक   की   लिखी  पुस्तकों  का   आधार    लेकर यूनानी     चकित्सा  की  बुनियाद  रखी , आयर्वेद  को  वेद  का  अंग   माना  जाता   है  ,


3- उर्दू में देवनागरी   अक्षर 

संस्कृत  और  हिन्दी   की  लिपि   देवनागरी  है   . इसमे  हरेक  ध्वनि  के लिए पृथक  अक्षर    है   ,  इस्लाम  की  धार्मिक  भाषा  अरबी  है    जिसमे  ऐसा नहीं  है    जब   मुसलमान  भारत   आये  तो उन्होंने   यहाँ   उर्दू  को   अपनी  भाषा  बना  लिया  और  यहां प्रचलित    शब्दों   को  लिखनेके लिए   अरबी  भाषा में  कुछ  अतिरिक्त   अक्षर जोड़   दिए    जैसे ,ट , ड ,ड़ ( ٹ ,ڈ ,ڑ )मुसलमानों   ने  यह  ध्वनि   या  अक्षर  भारत   से  लिए   है   ,  इनका  अल्लाह  भी  यह  अक्षर  नहीं   बोल   सकता


4-खगोल   विज्ञानं 

खगोल   विज्ञानं ( Astronomy"  )  को  अरबी   में "इल्मुल फलक  -   علم الفلك "और " ईल्मुल नजम -علم النجوم  "  कहा  जाता  है  , यह   भी  वैदिक  संस्कृति  की पैदाइश   है ,सैकड़ों   साल  पहले  भारत  के  खगोल   शास्त्री   ने " सिद्धांत  "  नामक  ग्रन्थ  की  रचना  की  थी   , जिसका सन 770  में  खलीफा  मंसूर   के   एक  दरबारी   ने   संस्कृत   से  अरबी  में  अनुवाद  किया  ,  और   इसका  नाम " जीज महलुल फिल  सिंद हिन्द दरजह दरजह  -  زيج محلول في السندهند لدرجة درجة "इस ग्रन्थ  में दी  गयी विभिन्न  टेबुलों  की  मदद   से  ग्रहों  की सही  स्थिति  ,  उनका  अंश   और  कोण  का सही   पता  चल  जाता  है    ,  मुसलमान  इस्लामी  जंतरी ( पंचाग  "  बनाने  में   इसका  सहारा लेते  हैं   ,

5-वैदिक गणना  पद्धति 

इस विधि  को(Hindu–Arabic numeral system)भी   कहा  जाता   है   क्योंकि   यह विधि   अरब  लोगों  ने   भारत  से सीखी  थी   , फिर  अरब  से यूरोप  के लोगों  ने सीखी  थी

इस्लाम से  पहले  और  इस्लाम के जन्म  तक  अरब लोगों   को गिनती  नहीं  आती  थी   ,  वह  अरबी   के    एक एक अक्षर के लिए एक  संख्या   मानते  थे  ,  जैसे अलिफ  को  1  और  बे को  दो  ,  लेकिन   इस्लाम  के  हजारों  साल   पहले   भारतीय विद्वानों   के  इकाई  से लेकर  महा शंख   तक  की  गणना  कर ली थी   . गिनती  की  इस  विधि  को  सन  825  में अरब   गणितज्ञ "अब्दुल्लाह मुहम्मद  बिन मूसा अल  ख्वारज़मी - عبد الله محمد بن موسى الخوارزمی‎ "ने  अरब  में  प्रचलित  किया  ,  बाद में  सन  830  में  " अबू  यूसुफ  याकूब बिन  इसहाक अल  सबाह अल  किन्दी - أبو يوسف يعقوب بن إسحاق الصبّاح الكندي‎ "ने  भारत   की  इस  गणना  विधि   को  इस्लामी  देशों  में  फैला  दिया   ,  जिसे  सभी   ने  अपना   लिया  . यह  भी   वैदिक  संस्कृति  की  देन है   , इस विधि  को " निज़ाम अल अदद अल  हिंदी अल  अरबी  -   نظام العد الهندي العربي  " कहा   जाता     है

6-Iजन्नत में  भारतीय  मसाले 
वैदिक  संस्कृति  काफी  प्राचीन   और  व्यापक   है  ,इसमे  धर्म   ,  भाषा  , शिष्टाचार  ,  परम्परा  के अतिरिक्त  भोजन  भी  सम्मिलित   है   ,    भारत के लोग  भोजन   के अनेकों  प्रकार  के  मसालों और  औषधीय पदार्थों    का  प्रयोग   करते   हैं    ,  लेकिन   बहुत  काम लोग  जानते  होंगे  कुछ  ऐसे   भारतीय  मसाले हैं   , जिनका   प्रयोग   मुसलमानों   का  अल्लाह   जन्नत में  शराब   बनाने  में   इस्तेमाल  करेगा  ,  और जन्नत में  वही  शराब   पिलायी  जायेगी .ऐसी   तीन  चीजों   का  उल्लेख   कुरान  में    है


1-जिन्जिबील -अदरक 
संस्कृत   में  अदरक  को  'श्रंगवेर ' भी  कहा  गया  है . और  यही शब्द ग्रीक भाषा में ' जिन्जीबरिस zingيberis (ζιγγίβερις).हो गया .फिर अंगरेजी  में "जिंजर Ginger "    होगया .और  इसी  को  अरबी में  "  जिन्जिबील  زنجبيل  "    कहा  गया  है ,वनस्पति  शाश्त्र  में  इसका नाम  " Zingiber officinale,  " है .मूलतः  यह शब्द  तमिल भाषा  के शब्द  "  इंजी இஞ்சி    " और " वेर வேர் "   से  मिल  कर बना  है .जिसका  अर्थ  सींग  वाली  जड़  होता है .और  अदरक  को सुखाकर  ही  "सौंठ "   बनायीं  जाती  है .जिसका  प्रयोग अल्लाह  जन्नत  में  शराब  में  मिलाने  के लिए  करता  है .   इसलिए  कुरान  में  कहा  है ,

"और वहां   उनको ऐसे  मद्य  का  पान  कराया  जायेगा   जो जंजबील  मिला  कर तय्यार  किया गया  हो " सूरा -अद दहर 76:17

"وَيُسْقَوْنَ فِيهَا كَأْسًا كَانَ مِزَاجُهَا زَنْجَبِيلًا"76:17

And in that [paradise] they will be given to drink of a cup flavoured with ginger, (76:17)

नोट -कुरान  के  हिंदी अनुवाद  में  इस आयत का  खुलासा    करते हुए  बताया है ,जन्नत में  शीतलता  होगी . और जन्जिबील   का तासीर  और गुण गर्म  होता है और वह  स्वादिष्ट  भी होता है ,और उसके  मिलाने से  मद्य   आनंद  दायक   हो जाता है '
 (हिंदी  कुरान .मकताबा   अल हसनात ,पेज 1110 टिप्पणी 11)

2-काफूर - कपूर 

संस्कृत  में   इसे  " कर्पूर "कहा  जाता  है . और  भारत की सभी भाषाओँ  के साथ  फारसी , उर्दू  में यही नाम   है .  अंगरेजी   में "Camphor '   है .और वनस्पति शाश्त्र में  इसका नाम " सिनामोमस कैफ़ोरा (Cinnamomum camphora, हैयह एक वृक्ष से प्राप्त किया जाता है .भारत में यह देहरादून, सहारनपुर, नीलगिरि तथा मैसूर आदि में पैदा किया जाता है.लगभग 50 वर्ष पुराने वृक्षों के काष्ठ आसवन (distillation) से कपूर प्राप्त किया जाता है.भारत में   कपूर  का उपयोग  दवाइयों  , सुगंधी  और  धार्मिक  कामों   के  लिए  किया  जाता है . लेकिन अल्लाह   जन्नत में  कपूर का प्रयोग   शराब  में   मिलाने के लिए  करता  है ,  कुरान में  कहा है ,

"और  वह  ऐसे  मद्य  का  पान  करेंगे जो कपूर  मिला कर  तय्यार किया  होगा "सूरा -अद दहर 76:5

"إِنَّ الْأَبْرَارَ يَشْرَبُونَ مِنْ كَأْسٍ كَانَ مِزَاجُهَا كَافُورًا "76:5

(they shall drink  of   cup whereof mixture    of   Kafur )

नोट -इस आयत   की व्याख्या में  कहा है ,वह  कपूर अत्यंत  आनंदप्रद ,  स्वादिष्ट ,शीतल , और सुगन्धित  होगा और जोजन्नत का आनंद लेने वाले   होंगे  उन्हीं  को मिलेगा
(कुरान  हिंदी  पेज  1109 टिप्पणी  3)
3-मुस्क - कस्तूरी 

यद्यपि  कुरान  में  कस्तूरी  शब्द  नहीं  आया  है ,कस्तूरी  मृगों  से  जो सुगन्धित  पदार्थ  मिलता  है ,यूनान तक  निर्यात होता था .और ग्रीक  भाषा  कस्तूरी  को " Musk " कहा जाता है ,कस्तूरी  मृग  को  "Musk Deer "  कहते हैं  , और अरबी  में "  المسك الغزلان    " कहते है  . वैज्ञानिक भाषा  में     इसका नाम   " Moschus  Moschidae  "है . ग्रीक  भाषामे  कस्तूरी मृग  के लिए प्रयुक्त  इसी मुस्क   शब्द  को  कुरान   में  लिया  गया है ,
कस्तूरी  मृग    लुप्तप्राय  प्राणी है  ,जो  हिमालय क्षेत्र  में मिलता  है .उसकी  ग्रंथियों से  जो  स्राव  निकालता है  उसी को कस्तूरी   कहते हैं  .जो दवाई , और  सुगंधी  में काम  आती  है . लेकिन अल्लाह   इसे भी  शराब   उद्योग में   इस्तेमाल  कर लिया  ,  कुरान  में लिखा है ,
"उन्हें खालिस शराब पिलायी जायेगी ,जो मुहरबंद होगी .और मुहर उसकी मुश्क की होगी " सूरा -अल ततफ़ीफ़ 83:25-26
"يُسْقَوْنَ مِنْ رَحِيقٍ مَخْتُومٍ "83:25

"خِتَامُهُ مِسْكٌ وَفِي ذَٰلِكَ فَلْيَتَنَافَسِ الْمُتَنَافِسُونَ " 83:26

They will be given a drink of pure wine whereon the seal , (25)pouring forth with a fragrance of musk.  (26)

नोट - इन आयतों में हिंदी कुरान में कहा है कि मनुष्य को उसी शराब की इच्छा करना चाहिए जो अल्लाह ने बनायी गयी है (.पेज 1139 टिप्पणी 11)

निष्कर्ष -कुरान से प्रमाणित इस सभी पुख्ता सबूतों से सिद्ध होता है कि अगर मुसलमान जन्नत भी चले गए तो वहां भी अल्लाह को भारत के इन तीनों मसालों की जरुरत पड़ेगी .जो उसे भारत से ही मंगवाना पड़ेंगी . क्योंकि यह वस्तुएं अरब में पैदा नहीं होती .और यदि अल्लाह ऐसा नहीं करेगा तो कुरान दिया गया उसका वादा झूठ साबित हो जायेगा .
इसलिए हमारा उन सभी भारत विरोधी जिहादियों से इतना ही कहना ही कि जब जन्नत में भी अल्लाह को भारतीय मसालों की जरुरत पड़ेगी तो स्वर्ग जैसे इस भारत को बर्बाद क्यों करना चाहते हो ?क्योंकि हमारे लिए तो हमारी जन्मभूमि ही जन्नत से भी महान है !
नोट-लेख  संख्या   -200 /87 दिनांक  29 /1 /2013   फे  बुक  31 /03 /2013


अब  मुस्लिम पर्सनल बोर्ड  के मुल्ले बताएं  की वह  वैदिक  कल्चर  की  पैदायश  इन   चीजों  को   छोड़ने  की  हिम्मत  करेंगे   ,  और  अल्लाह से दुआ करेंगे  कि  हमें  जन्नत  नहीं   चाहिए क्योंकि  वहां  भारतीय  चीजों  से बनी  शराब     मिलेगी   . 




http://aimplboard.in/press-release.php

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें