सोमवार, 20 जुलाई 2015

सात्विक आहार अपनाओ मांसाहार त्यागो !!

बड़े ही  दुःख  की  बात है  कि धार्मिक   ज्ञान   के  अभाव  , और पाश्चात्य संस्कृति  के  प्रभाव   में  आकर  आजकल  के   हिन्दू    युवा वर्ग  में माँसाहारी  भोजन  करने    का  फैशन   हो  गया   है   ,  कुछ  लोग  तो  अण्डों   को  वेजिटेरियन  मानने  लगे   हैं  ,  कुछ  लोग  तो  केवल शौक   के लिए  चिकन , मछली  और  मीट  खाने   लगे   हैं   ,  इसका  दुष्परिणाम  यह  हुआ   कि ऐसे लोग   किसी न किसी   रोग  से ग्रस्त   पाये गए   हैं  ,  आज  ऐसे लोगों  को उचित  मार्गदर्शन   की  जरुरत    है ,

हिन्दू धर्मशास्त्रों मे एकमत से सभी जीवों को ईश्वर का अंश माना है व अहिंसा, दया, प्रेम, क्षमा आदि गुणों को अत्यंत महत्व दिया , मांसाहार को बिल्कुल त्याज्य, दोषपूर्ण, आयु क्षीण करने वाला व पाप योनियों में ले जाने वाला कहा है । महाभारत के अनुशासन पर्व में भीष्म पितामह ने मांस खाने वाले, मांस का व्यापार करने वाले व मांस के लिये जीव हत्या करने वाले तीनों को दोषी बताया है । उन्होने कहा हैं कि जो दूसरे के मांस से अपना मांस बढ़ाना चाहता है वह जहा कहीं भी जन्म लेता है चैन से नहीं रह पाता । जो अन्य प्राणियों का मांस खाते है वे दूसरे जन्म में उन्हीं प्राणियों द्वारा भक्षण किये जाते है । जिस प्राणी का वध किया जाता है वह यही कहता है
"मांस भक्षयते यस्माद भक्षयिष्ये तमप्यहमू "अर्थात् आज वह मुझे खाता है तो कभी मैं उसे खाऊँगा ।

श्रीमद् भगवत गीता में भोजन की तीन श्रेणियाँ बताई गई है ।
 (1) सात्त्विक भोजन -जैसे फल, सब्जी, अनाज, दालें, मेवे, दूध, मक्सन इत्यादि जो अग्यु, बुद्धि बल बढ़ाते है व सुख, शांति, दयाभाव, अहिंसा भाव व एकरसता प्रदान करते है व हर प्रकार की अशुद्धियों से शरीर, दिल व मस्तिष्क को बचाते हैं
(2) राजसिक भोजन - अति गर्म, तीखे, कड़वे, खट्टे, मिर्च मसाले आदि जलन उत्पन्न करने वाले, रूखे पदार्थ शामिल है । इस प्रकार का भोजन उत्तेजक होता है व दु :ख, रोग व चिन्ता देने वाला है ।
(3) तामसिक भोजन -जैसे बासी, रसहीन, अर्ध पके,दुर्गन्ध  वाले, सड़े अपवित्र नशीले पदार्थ मांस इत्यादि जो इन्सान को कुसंस्कारों की ओर ले जाने वाले बुद्धि भ्रष्ट करने वाले, रोगों व आलस्य इत्यादि दुर्गुण देने वाले होते हैं ।


वैदिक मत प्रारम्भ से ही अहिंसक और शाकाहारी रहा है, यह देखिए-

य आमं मांसमदन्ति पौरूषेयं च ये क्रवि: !
गर्भान खादन्ति केशवास्तानितो नाशयामसि !! (अथर्ववेद- 8:6:23)

-जो कच्चा माँस खाते हैं, जो मनुष्यों द्वारा पकाया हुआ माँस खाते हैं, जो गर्भ रूप अंडों का सेवन करते हैं, उन के इस दुष्ट व्यसन का नाश करो !

अघ्न्या यजमानस्य पशून्पाहि (यजुर्वेद-1:1)

-हे मनुष्यों ! पशु अघ्न्य हैं – कभी न मारने योग्य, पशुओं की रक्षा करो |

अहिंसा परमो धर्मः सर्वप्राणभृतां वरः। (आदिपर्व- 11:13)

-किसी भी प्राणी को न मारना ही परमधर्म है ।

सुरां मत्स्यान्मधु मांसमासवकृसरौदनम् ।
धूर्तैः प्रवर्तितं ह्येतन्नैतद् वेदेषु कल्पितम् ॥ (शान्तिपर्व- 265:9)

-सुरा, मछली, मद्य, मांस, आसव, कृसरा आदि भोजन, धूर्त प्रवर्तित है जिन्होनें ऐसे अखाद्य को वेदों में कल्पित कर दिया है।

अनुमंता विशसिता निहन्ता क्रयविक्रयी ।
संस्कर्त्ता चोपहर्त्ता च खादकश्चेति घातका: ॥ (मनुस्मृति- 5:51)

प्राणी के   मांस    के  लिए वध की  अनुमति  देने  वाला , सहमति  देनेवाला  , मारने  वाला   ,  मांस  का  क्रय  विक्रय  करने  वाला ,पकाने   वाला ,परोसने  वाला   और  खाने  वाला   सभी  घातकी     अर्थात  हत्यारे  हैं

2-सिख  धर्म  में  मांसाहार  का निषेध 

"कबीर  भांग  मछली  सूरा पान  जो जो  प्राणी   खाहिं 

तीरथ  नेम  ब्रत  सब जे  कीते  सभी  रसातल   जाहिं "-– श्री  गुरुग्रन्थ  साहब Ang  137


"जीव    वधहु को  धरम  कर थापहु अधरम कहहु  कत  भाई 
आपन  को मुनिवर  कह थापहु  काको  कहहु  कसाई "-  श्री  गुरुग्रन्थ  साहब  Ang 1103)


वेद  कतेब  कहो   मत झूठे   ,झूठा  जो  न  विचारे - जो   सब  में एक   खुदा   कहु  तो  क्यों  मुरगी  मारे " -श्री  गुरुग्रन्थ  साहब Ang 1350)


शिरोमणि गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी ने गहरी खोज के बाद जो गुरु साहब के निशान तथा हुकम नामें पुस्तक के रूप में छपवाये है उनमें से एक हुक्मनामा यह है ।

पृष्ठ 103-हुक्म नामा  न. 113
हुक्मनामा बाबा बन्दा बहादुर जी,मोहर फारसी

देगो तेगो फतहि नुसरत बेदरिंग
याफत अज नाम गुरु गोविन्द सिंह
 १ ओंकार    फते दरसनु

सिरी सचे साहिब जी दा हुक्म है सरबत खालसा जउनपुर का गुरु रखेगा.. .खालसे दी रहत रहणा भंग तमाकू हफीम पोस्त दारु कोई नाहि खाणा मांस मछली पिआज ना ही खाणा चोरी जारी नारही करणी ।

अर्थात्( मांस, मछली, पिआज, नशीले पदार्थ, शराब इत्यादि क़ीमनाही की गई है । सभी सिख गुरुद्वारों में लंगर में अनिवार्यत : शाकाहार ही बनता है ।


3-ईसाई धर्म  में  मांस  मदिरा  का  निषेध 
ईसाई धर्म    के  धर्मग्रन्थ   बाइबिल   के नए  नियम ( New testament)  में साफ़  शब्दों   में   मांस   खाने  और   शराब  पीने  की  मनाई    की गयी है , क्योंकि  इनके  सेवन करने  वाला  खुद  तो ठोकर  खाता   है    .  और  दूसरों   को भी   सही  धर्म  से  भटका  देता है
It is better not to eat meat or drink wine or to do anything else that will cause your brother or sister to fall.Romans14:21

भला तो यह है, कि तू न मांस खाए, और न दाख रस पीए, न और कुछ ऐसा करे, जिस से तेरा भाई ठोकर खाए

4-बौद्धधर्म में जीवहत्या का निषेध 

किसी   भी  प्राणी   को  मारे  बिना मांस   की  प्राप्ति  नहीं   हो  सकती   , इसलिए   भगवान  बुद्ध    ने हर प्रकार के  जीवों  की  हत्या करने को   पाप  बताया    है    ,  और  कहा   है  ऐसा   करने वाले   कभी     सुख  शांति  प्राप्त   नहीं   करेंगे ,

धम्मपद धम्मपद की गाथा दण्ड्वग्गो’ मे भगवान बुद्ध कहते है :

सब्बे तसन्ति दण्डस्स, सब्बेसं जीवितं पियं।
अत्तानं उपमं कत्वा, न हनेय्य न घातये॥-130
सभी दंड से डरते हैं । सभी को मृत्यु से डर लगता है । अत: सभी को अपने जैसा समझ कर न तो किसी की हत्या करे या हत्या करने के लिये प्रेरित करे ।

सुखकामानि भूतानि, यो दण्डेन विहिंसति।
अत्तनो सुखमेसानो, पेच्‍च सो न लभते सुखं॥-131
जो सुख चाहने वाले प्राणियों को अपने सुख की चाह से , दंड से विहिंसित करता है ( कष्ट पहुँचाता है ) वह मर कर सुख नही पाता है ।

बौद्ध   धर्म   के  " पंचशील ( यानी   पांच  प्रतिज्ञा  )    में   पहली  प्रतिज्ञा   है    ,

" पाणाति  पाता वेरमणी सिक्खा  पदम  समादियामि  "

अर्थात    मैं   किसी  भी  प्राणी  को  नहीं  मारने  की  प्रतिज्ञा   करता  हूँ

5-जैन धर्म   में   प्राणी   हत्या   का   निषेध

जैन   धर्म    में तो    छोटे   बड़े   सभी  प्रकार के   जीवों   को   मारने  की  घोर  वर्जना  की गई    है  
भगवान  महावीर   ने   कहा   है    ,

"सव्वे  जीवा  इच्छन्ति  जीवियुं न मररिस्सयुं -तम्हा   पाणि बहम   घोरं  निग्गन्ठा पब्बजन्ति  च "समण  सुत्त   गाथा   -3 

 अर्थात  -सभी  जीव  जीना  चाहते   है   ,  मारना   कोई     नहीं   चाहता   ,  इसलिए  निर्ग्रन्थ ( जैन )  प्राणी  वध   की   घोर  वर्जना  करते   हैं

6-सूफी  मत   में  अहिंसा  का  आदेश 

यद्यपि अधिकांश   मुस्लिम  मांसाहारी   होते   हैं   , परन्तु इस्लाम  के  सूफी  संत  मौलाना  रूमी   ने  अपनी   मसनवी   में मुसलमानों को  अहिंसा  का  उपदेश   दिया   है  ,    वह  कहते हैं  ,
"मी  आजार मूरी  कि  दाना  कुशस्त  ,  कि  जां  दारद   औ  जां  शीरीं  खुशस्त "
अर्थात  - तुम  चींटी   को  भी  नहीं   मारो ,जो दाना   खाती   है   , क्योंकि  उसमे  भी  जान   है  ,  और  हरेक को  अपनी  जान  प्यारी   होती   है .

इन  सभी   धर्मों  के  ग्रंथों  के वचनों   से  निर्विवाद  रूप   से  यही    बात  सिद्ध   होती   है कि  सदा  स्वस्थ   , निरोगी  और  दीर्घायु   बने   रहने के लिए  हमें    सात्विक   भोजन  अपनाने  की   और  मांसाहार  को  त्यागने  की जरुरत   है   ,  क्योंकि    मांसाहार  के लिए  मूक   निर्दोष  जीवों    की  हत्या  होती   है  ,जो   महापाप   है   ,  दूसरे   मांसाहार   से अनेकों   प्रकार के   रोग   हो   जाते   हैं   , जैसा कि  आजकल   हो रहे   हैं ,

270


http://shrut-sugya.blogspot.in/p/jivdaya-vegetarianism.html


Why is there a controversy in the Panth over eating meat?


http://www.sikhanswers.com/rehat-maryada-code-of-conduct/meat-controversy-in-the-panth/



4 टिप्‍पणियां:

  1. बिल्कुल सत्य जानकारी और यही अध्यात्म और धर्म है।
    बहुत बहुत धन्यवाद जानकारी देने के लिए

    उत्तर देंहटाएं
  2. हमे कहते हो मांस क्यो खाते हो लेकिन ऐसे जानवर जिनका कुरान मे खाना का जिक्र है खा सकते है क्योकि मुर्गे बकरे नही खाऐगे तो इनकी जनसख्या इतनी हो जायेगी बाढ आ जायेगी इन जानवरो की। सारा जंगल का चारा ये खा जाया करेगे फिर इन्सान के लिए क्या बचेगा। हर घर मे बकरे होगे। बताओ अगर हर घर मे भैंसे मुर्गे होगे तो दुनिया कैसे चल पाऐगी। आए दिन सिर्फ हिन्दुस्तान मे लाखो मुर्गे और हजारो कटडे काटे जाते है । 70% लोग मांस खाकर पेट भरते है । सब को शाकाहारी भोजन दिया जाये तो महॅगाई कितनी हो जाएगी। समुद्री तट पर 90% लोग मछली खाकर पेट भरते है। समझ मे आया कुछ शाकाहारी भोजन खाने वालो मांस को गलत कहने वाले हिन्दुओ अक्ल का इस्तमाल करो ।

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

      हटाएं
    2. प्रिय नफीस मलिक जी,
      मांसाहार के बारे में आपके विचार जान कर बड़ा आश्चर्य हुआ, की लोग अपने समर्थन में कैसे-कैसे तथ्य जुटा लेते है. जिन्हें मांस खाना है वे बड़े ख़ुशी से खाएँ. लेकिन आप लोगों को अपने समर्थन में गलत दलीलों का सहारा लेते हुए देख तरस आता है. आपके तर्कों के लिए मेरे पास भी कुछ सवाल और जवाब हैं.
      क्या मांस साग सब्जियों से सस्ता आता है? जो आप लोगों के मांस ना खाने के कारण मंहगाई जैसी महान विपदा से भयभीत हैं. जिन जानवरों का मांस बाजार में बिकता है, क्या उनका जन्म प्राकृतिक रूप से होता है अथवा वे हाईब्रीड होते है? जिनका उत्पादन सिर्फ खाने के लिए किया जाता है न की उन्हें पाला जाता है. जानवरों द्वारा जंगल ख़त्म करने के लिए क्या पर्याप्त जंगल बचे हैं? इन्सान जंगल और खेतों की जगह तो बुचाडखाने घर और फेक्ट्रियां बना दी हैं, और इल्जाम लगाता है बेजुबान जानवरों पर. क्योंकि वे आपकी तरह बचाव में कोई दलील नहीं दे सकते. इन्सान द्वारा मछलियाँ न खाने से आपकी चिंता यह है की समंदर में उनकी संख्या इतनी बढ़ जाएगी की ग्लेशियरों के पिघलने से पहले ही वह महाप्रलय आ जाएगी जिससे धरती समंदर में डूब जाएगी.आपको यह जानकर अत्यन्त हर्ष होगा की आपकी मांग को ध्यान में रखते हुए बहुत से लोग अपनी जमीन पर तालाब बनवा कर आपके खाने लिए मछलियों का उत्पादन कर रहे हैं. पृथ्वी को महाप्रलय से बचाने में इसे व्यापारी लोग एक बड़ा योगदान दे रहे हैं. अतः आज के वक्त में जानवरों की जनसँख्या को कोई संकट नहीं कहा जा सकता. क्योंकि इन्सान ने उन्हें तो छोड़ा ही नहीं है. बल्कि आज सरकार के अलग-अलग विभाग उन्हें दिन में दिया लेकर ढूंढ रहे हैं. जिसमें आपके द्वारा की गई उनकी मदद शायद आपको सरकार के किसी पुरस्कार का हक़दार बना सकती है. इसके अलावा मानव जनसंक्या को नियंत्रित करने के लिए सरकार ने बहुत सारे विभाग व नयी नीतियां बनाई हैं व बना रही है. आपको हो रही चिंता के लिए मुझे अफ़सोस है. इतना सब जानने के बाद आप अपने 'जनसँख्या नियंत्रण सिद्धांत" के पक्ष में सरकार को इंसानों का मांस बेचने की सलाह दे सकते हैं. जनसंख्या नियंत्रण को लेकर आपकी चिंता का सम्मान करता हूँ एंव आपके सिद्धांत के लिए नोबल पुरुस्कार की कामना करता हूँ.
      धन्यवाद,
      आपका दोस्त
      हेमन्त बसवाल

      हटाएं