रविवार, 13 अक्तूबर 2013

रसूल का घरेलू व्यभिचार !

विश्व  में भारतीय  संस्कृति और परम्परा  को महान  माना  जाता  है  .क्योंकि  इस में  स्त्रियों  को  देवी   की  तरह  सम्मान दिया  जाता   है .यहाँ   तक  मौसी  ,  बुआ   चचेरी  बहिन  और पुत्र वधु  पर सपने   में  भी  बुरी  दृष्टि    रखने को   महापाप  और अपराध   माना   गया  है . लेकिन  इन्हीं  कारणों   से  कोई  भी  समझदार  व्यक्ति  इसलाम   को धर्म   कभी  नहीं   मानेगा  , क्योंकि मुहम्मद  साहब  अपनी  वासना  पूर्ति  के लिए कुरान   का  सहारा  लेकर ऎसी   ही स्त्रियों  से सहवास   करने  को वैध  बना  देते  थे  ,  जिसका   पालन  मुसलमान  आज  भी  कर  रहे  हैं .इस  विषय  को स्पष्ट   करने  के  लिये  कुरान   की  उन  आयतों  , हदीसों और  उनकी  ऐतिहासिक  प्रष्ट भूमि  को देखना  होगा  , कि मुहम्मद  साहब  ने  अपनी  सगी  मौसी    , चचेरी   बहिन  और अपने  दत्तक  पुत्र  की पत्नी  से  सहवास  कैसे  किया  था  . और इस  पाप   को   कुरान  की आयत  बना  कर  कैसे   जायज  बना दिया  .

इस्लामी  परिभाषा  में  अपने  शहर  को छोड़  कर  पलायन   करने  को  हिजरत (Migration )  कहा  जाता   है . लगभग  सन 622  में   मुहम्मद  साहब  को   मक्का  छोड़  कर  मदीना   जाना  पडा  था .उनके  साथ   कुछ  पुरुष  और  महिलायें  भी  थी . साथ   में  उनकी   प्रिय  पत्नी  आयशा  भी  थी . इसी  घटना   की  प्रष्ट भूमि   में  कुरआन  की  सूरा  अहजाब की  वह  आयतें    दीगयी   हैं  जिनमे मौसी, चचेरी  बहिन  , और पुत्रवधु   से  शादी  करना  या उनसे  सम्भोग  करने  को जायज   ठहरा  दिया गया  है  .ऐसी  तीन  औरतों  के  बारे में  इस  लेख  में  जानकारी  दी  जा  रही  है , जिन  से मुहम्मद   साहब  ने  कुरान   की  आड़  में  अपनी  हवस  पूरी   की  थी .

1--मौसी  के साथ कुकर्म 
मुहम्मद  साहब  की  हवस  की शिकार  होने  वाली  पहली  औरत  का  नाम  " खौला बिन्त  हकीम अल सलमिया  - خولة بنت حكيم السلمية  "  था  . और  उसके  पति  का  नाम "उसमान  बिन  मजऊम -  عثمان بن مظعون‎ "  था  . खौला  मुहम्मद  साहब  की  माँ  की  बहिन  यानि  उनकी  सगी  मौसी  ( maternal aunt ) थी  . इसको  मुहम्मद  साहब  ने अपना  सहाबी  बना  दिया  था . मदीना  की  हिजरत  में मुहम्मद आयशा  के साथ  खौला को  भी  ले गए  थे .यह  घटना  उसी  समय  की  है इस  औरत  ने  अय्याशी  के  लिए  खुद  को  मुहम्मद   के  हवाले  कर  दिया  था .यह बात  मुसनद   अहमद  में   इस प्रकार दी  गयी  है .
"खौला बिन्त  हकीम  ने रसूल  से पूछा  कि जिस औरत  को सपने में  ही स्खलन   होने  की  बीमारी  हो , तो  वह औरत  क्या  करे  , रसूल  ने  कहा  उसे  मेरे  पास लेटना  चाहिए "
"Khaula Bint Hakim al-Salmiya,asked the prophet about the woman having a wet dream, he said she should lay with    me "

 محمد بن جعفر قال حدثنا شعبة وحجاج قال حدثني شعبة قال سمعت عطاء الخراساني يحدث عن‫حدثنا """‬ ‫سعيد بن المسيب أن خولة بنت حكيم السلمية وهي إحدى خال ت النبي صلى ال عليه وسلم سألت النبي صلى ال‬ ‫عليه وسلم عن المرأة تحتلم فقال رسول ال صلى ال عليه وسلم لتغتسل‬Translation:26768 - 

Musnad Ahmad (‫مسند أدحمد‬  )hadith-26768 

 तब  खौला  मुहम्मद  साहब  के पास  सो  गयी  , और  मुहम्मद  साहब  ने उसके  साथ सम्भोग  किया .

2-आयशा  ने खौला  को  धिक्कारा 
जब  आयशा  को पता  चला  कि  रसूल  चुपचाप  खौला  के साथ  सम्भोग  कर रहे  हैं तो उसने  खौला को  धिक्कारा और उसकी  बेशर्मी   के  लिए फटकारा  यह  बात इस हदीस  में  दी  गयी  है ,
"हिशाम  के  पिता  ने  कहा  कि  खौला  एक ऎसी  औरत थी  जिसने  सम्भोग  के लिए  खुद  को रसूल  के सामने  प्रस्तुत  कर  दिया था .इसलिए आयशा  ने उस  से  पूछा ,क्या तुझे एक पराये  मर्द  के सामने खुद  को पेश  करने  में  शर्म  नही  आयी ?  तब रसूल  ने  कुरान  की  सूरा  अहजाब 33:50  की  यह  आयत सुना दी , जिसमे  कहा  था  " हे नबी  तुम सम्भोग  के  लिए  अपनी  पत्नियों  की  बारी ( Turn )  को  टाल  सकते  हो .इस  पर आयशा  बोली  लगता  है  तुम्हारा अल्लाह  तुम्हें  और  अधिक  मजे  करने  की इजाजत  दे  रहा  है ."( I see, but, that your Lord hurries in pleasing you)
"حَدَّثَنَا مُحَمَّدُ بْنُ سَلاَمٍ، حَدَّثَنَا ابْنُ فُضَيْلٍ، حَدَّثَنَا هِشَامٌ، عَنْ أَبِيهِ، قَالَ كَانَتْ خَوْلَةُ بِنْتُ حَكِيمٍ مِنَ اللاَّئِي وَهَبْنَ أَنْفُسَهُنَّ لِلنَّبِيِّ صلى الله عليه وسلم فَقَالَتْ عَائِشَةُ أَمَا تَسْتَحِي الْمَرْأَةُ أَنْ تَهَبَ نَفْسَهَا لِلرَّجُلِ فَلَمَّا نَزَلَتْ ‏{‏تُرْجِئُ مَنْ تَشَاءُ مِنْهُنَّ‏}‏ قُلْتُ يَا رَسُولَ اللَّهِ مَا أَرَى رَبَّكَ إِلاَّ يُسَارِعُ فِي هَوَاكَ‏.‏ رَوَاهُ أَبُو سَعِيدٍ الْمُؤَدِّبُ وَمُحَمَّدُ بْنُ بِشْرٍ وَعَبْدَةُ عَنْ هِشَامٍ عَنْ أَبِيهِ عَنْ عَائِشَةَ يَزِيدُ بَعْضُهُمْ عَلَى بَعْضٍ‏.‏

बुखारी -जिल्द 7 किताब  62  हदीस 48

3-आयशा  को ईर्ष्या  हुई 

कोई  भी  महिला  अपने  पति की दूसरी   महिला  से अय्याशी  को  सहन   नहीं  करेगी  . आयशा  ने  रसूल से  कहा  कि  मुझे  इस औरत से ईर्ष्या  हो  रही  है . यह  बात  इस  हदीस  में  इस प्रकार  दी  गयी  है
"आयशा ने  कहा  कि  मैं  रसूल से  कहा मुझे  उस  औरत   से  जलन  हो रही  है जिसने  सम्भोग  के लिए खुद  को तुम्हारे  हवाले  कर  दिया . क्या एसा  करना  गुनाह  नहीं  है . तब रसूल ने   सूरा अहजाब  की 33:50 आयत  सुना  कर  कहा  इसमे  कोई  पाप  नहीं  है  ,क्योंकि  यह अल्लाह  का  आदेश  है . तब  आयशा ने  कहा  लगता  है , तुम्हारे  अल्लाह  को तुम्हें  खुश  करने  की  बड़ी  जल्दी  है "(It seems to me that your Lord hastens to satisfy your desire. )

सही मुस्लिम -किताब 8  हदीस 3453

4-चचेरी  बहिन  से सहवास 
मुहम्मद  साहब  के  चाचा अबू  तालिब  की बड़ी    लड़की  का  नाम "उम्मे  हानी  बिन्त  अबू तालिब - أُمِّ هَانِئٍ بِنْتِ أَبِي طَالِبٍ  "  था  .जिसे   लोग "फकीतः और  " हिन्दा "  भी  कहते  थे .यह  सन 630  ईसवी  यानि  8   हिजरी  की  बात  है . जब  मुहम्मद साहब  तायफ़  की  लड़ाई  में  हार  कर  साथियों  के साथ जान  बचाने  के  लिए  काबा  में  छुपे  थे .लकिन  मुहम्मद  साहब   चुपचाप  सबकी  नजरें   चुरा   कर   उम्मे  हानी  के घर  में  घुस  गए ,लोगों   ने  उनको  काबा  में  बहुत  खोजा  .और आखिर  वह उम्मे  हानी  के घर में  पकडे  गए  .इस  बात  को छुपाने  के  लिए मुहम्मद  साहब  ने एक कहानी  गढ़  दी  और  लोगों  से  कहा कि  मैं  यरुशलेम  और  जन्नत  की  सैर  करने  गया  था .मुझे अल्लाह  ने बुलवाया  था .उस समय  उनकी पहली पत्नी खदीजा  की  मौत  हो चुकी थी वास्तव में  .मुहम्मद  साहब उम्मे  हानी  के  साथ  व्यभिचार  करने  गए  थे .उन्होंने  कुरान  की सुरा अहजाब   की आयत 33:50 सुना  कर सहवास  के  लिए  पटा   लिया  था .यह  बात हदीस  की  किताब  तिरमिजी   में  मौजूद  है . जिसे  प्रमाणिक  माना  जाता  है . पूरी  हदीस  इस प्रकार  है ,

"उम्मे हानी  ने  बताया उस रात  रसूल  ने मुझ से अपने  साथ शादी  करने   का  प्रस्ताव  रखा  , लेकिन मैं इसके  लिये  उन  से  माफी  मागी  . तब  उन्होंने  कहा  कि अभी  अभी  अल्लाह  की तरफ  से  मुझे एक  आदेश   मिला  है ".हे  नबी हमने  तुम्हारे   लिए वह पत्नियां  वैध  कर दी हैं ,जिनके मेहर  तुमने  दे दिये  .और  लौंडियाँ  जो युद्ध  में  प्राप्त  हो ,और चाचा  की  बेटीयाँ  , फ़ूफ़ियों  की  बेटियाँ ,मामू  की बेटियाँ,खालाओं  की  बेटियाँ और  जिस औरत ने तुम्हारे  साथ  हिजरत  की  है ,और वह ईमान  वाली  औरत  जो खुद को  तुम्हारे  लिए समर्पित  हो  जाये "  यह  सुन  कर  मैं  राजी  हो गयी  और  मुसलमान  बन  गयी "

" عَنْ أُمِّ هَانِئٍ بِنْتِ أَبِي طَالِبٍ، قَالَتْ خَطَبَنِي رَسُولُ اللَّهِ صلى الله عليه وسلم فَاعْتَذَرْتُ إِلَيْهِ فَعَذَرَنِي ثُمَّ أَنْزَلَ اللَّهُ تَعَالَى ‏:‏ ‏(‏إنَّا أَحْلَلْنَا لَكَ أَزْوَاجَكَ اللاَّتِي آتَيْتَ أُجُورَهُنَّ وَمَا مَلَكَتْ يَمِينُكَ مِمَّا أَفَاءَ اللَّهُ عَلَيْكَ وَبَنَاتِ عَمِّكَ وَبَنَاتِ عَمَّاتِكَ وَبَنَاتِ خَالِكَ وَبَنَاتِ خَالاَتِكَ اللاَّتِي هَاجَرْنَ مَعَكَ وَامْرَأَةً مُؤْمِنَةً إِنْ وَهَبَتْ نَفْسَهَا لِلنَّبِيِّ ‏)‏ الآيَةَ قَالَتْ فَلَمْ أَكُنْ أَحِلُّ لَهُ لأَنِّي لَمْ أُهَاجِرْ كُنْتُ مِنَ الطُّلَقَاءِ ‏.‏ قَالَ أَبُو عِيسَى لاَ نَعْرِفُهُ إِلاَّ مِنْ هَذَا الْوَجْهِ مِنْ حَدِيثِ السُّدِّيِّ ‏.‏  "-هَذَا حَدِيثٌ حَسَنٌ صَحِيحٌ -

तिरमिजी -जिल्द 1किताब  44  हदीस 3214  पे.522

5-पुत्रवधु  से  सहवास 

मुहम्मद  साहब  के  समय अरब  में दासप्रथा प्रचलित  थी .लोग युद्ध  में  पुरुषों  , औरतों  , और बच्चों  को पकड़  लेते  थे .और उनको  बेच  देते थे .ऐसा  ही  एक लड़का मुहम्मद  साहब  ने  खरीदा  था  . जिसका  नाम " जैद बिन  हारिस  -  زيد بن حارثة‎  " था .(c. 581-629 CE) मुहम्मद  साहब  ने उसे आजाद  करके  अपना दत्तक  पुत्र  बना  लिया था अरबी  में . दत्तक  पुत्र (adopt son ) को " मुतबन्ना "  कहा  जाता  है . यह एक मात्र  व्यक्ति  है  जिसका  नाम कुरान सूरा  अह्जाब  33:37  में    मौजूद  है .इसी  लिए  लोग जैद  को " जैद मौला "या  " जैद बिन  मुहम्मद  भी  कहते  थे .यह बात इस हदीस से  साबित  होती  है ,

""حَدَّثَنَا قُتَيْبَةُ، حَدَّثَنَا يَعْقُوبُ بْنُ عَبْدِ الرَّحْمَنِ، عَنْ مُوسَى بْنِ عُقْبَةَ، عَنْ سَالِمِ بْنِ عَبْدِ اللَّهِ بْنِ عُمَرَ، عَنْ أَبِيهِ، قَالَ مَا كُنَّا نَدْعُو زَيْدَ بْنَ حَارِثَةَ إِلاَّ زَيْدَ بْنَ مُحَمَّدٍ حَتَّى نَزَلَتْ ‏:‏ ‏(‏ ادعُوهُمْ لآبَائِهِمْ هُوَ أَقْسَطُ عِنْدَ اللَّهِ ‏)‏ ‏.‏ قَالَ هَذَا حَدِيثٌ صَحِيحٌ ‏.‏   "

तिरमिजी -जिल्द 1 किताब 46 हदीस  3814

कुछ  समय  के बाद् जैद की  शादी  हो गयी  उसकी पत्नी  का  नाम "जैनब बिन्त जहश - زينب بنت جحش‎     " था वह  काफी सुन्दर और  गोरी थी  . इसलिये  मुहम्मद  साहब   की  नजर खराब  हो गयी .उन्होंने घोषित  कर  दिया  कि  आज  से  मेरे  दत्तक  पुत्र  को मेरे  नाम  से  नहीं  उसके असली  बाप  के  नाम  से  पुकारा  जाय .और  इसकी  पुष्टि  के  लिये  कुरान  की सूरा 33:5  भी ठोक  दी .यह  बात  इस  हदीस  से  सबित  होती  है  ,

6-रसूल  की  नीयत  में  पाप 

जैनब  को हासिल करने  के  लिए मुहम्मद  साहब  ने  फिर कुरान का दुरुपयोग   किया .और   लोगों  से  जैद को   मुहम्मद  का   बेटा  कहने  से मना  कर दिया , ताकि  लोग जैनब  को  उनके  लडके  की  पत्नी  नहीं  मानें .
"  जैनब कुरैश कबीले  की  सब से सुंदर लड़की  थी .और  जब  अल्लाह   ने  अपनी  किताब   में  जैद  के  बार में  सूरा 33  की  आयत 5  नाजिल    कर दी , जिसमे  कहा  था  कि  आज  से  तुम  लोग  जैद  को उसके असली  बाप  के  नाम  से  पुकारा   करो .,क्योंकि अल्लाह  की  नजर  में  यह  बात   तर्कसंगत  प्रतीत   लगती  है .और यदि तुम्हें  किसी  के  बाप  का नाम  नहीं पता हो ,तो उस  व्यक्ति  को  भाई  कह  कर  पुकारा  करो ,

मलिक मुवत्ता -किताब  30  हदीस 212

 7-कुरान की  सूरा 33:5  की  व्याख्या 

कुरान की  सूरा अहजाब की आयत 5  के अनुसार दत्तक पुत्र  जैद  को असली  पुत्र  का  दर्जा  नहीं  दिया  गया  , इस आयत  की  व्याख्या यानी तफ़सीर "जलालुद्दीन सुयूती -  جلال الدين السيوطي‎ " ने  की  है . इनका  काल c. 1445–1505 AD है .इन्होने  कुरान  की  जो तफ़सीर   की  है ,उसका  नाम " तफ़सीर जलालैन -تفسير الجلالين  "  है .इसमे  बताया  गया  है  कि रसूल  ने  जैद को अपने  पुत्र  का दर्जा नहीं   देने  के  लिए  यह  तर्क  दिए  थे ,1 .दत्तक  पुत्र रखने की  परंपरा  अज्ञान काल  है , अब इसकी कोई  जरुरत  नहीं  है .2 . मैंने  जिस समय  जैद  को खरीदा  था  ,उस समय अल्लाह ने  मुझे रसूल  नही  बनाया था .3. लोग  जैद  को  मेरा  सगा  बेटा  मान   लेते  थे . जिस  से  मेरी  बदनामी  होती  थी .4.  जैद  ने मुझ  से  जैनब  को तलाक  देने  का  वादा  कर  रखा  है .

{ وَإِذْ تَقُولُ لِلَّذِيۤ أَنعَمَ ٱللَّهُ عَلَيْهِ وَأَنْعَمْتَ عَلَيْهِ أَمْسِكْ عَلَيْكَ زَوْجَكَ وَٱتَّقِ ٱللَّهَ وَتُخْفِي فِي نَفْسِكَ مَا ٱللَّهُ مُبْدِيهِ وَتَخْشَى ٱلنَّاسَ وَٱللَّهُ أَحَقُّ أَن تَخْشَاهُ فَلَمَّا قَضَىٰ زَيْدٌ مِّنْهَا وَطَراً زَوَّجْنَاكَهَا لِكَيْ لاَ يَكُونَ عَلَى ٱلْمُؤْمِنِينَ حَرَجٌ فِيۤ أَزْوَاجِ أَدْعِيَآئِهِمْ إِذَا قَضَوْاْ مِنْهُنَّ وَطَراً وَكَانَ أَمْرُ ٱللَّهِ مَفْعُولاً }

Tafsir al-Jalalayn - (تفسير الجلالين )Sura -ahzab  33:5


इन्हीं  कुतर्कों  के आधार पर लगभग सन625  ईसवी  में  मुहम्मद  साहब  ने अपने दत्तक  पुत्र  जैद  की  पत्नी  से शादी  कर  डाली .यानी  जैनब  के साथ   व्यभिचार  किया .
देखिये  विडिओ -Prophet Muhammad lusts after & steals his adopted son's wife Pt. 2

http://www.youtube.com/watch?v=wp3pMgmGuVo

अपने  निकट सम्बन्ध  की स्त्रियों  के साथ  शारीरिक संबंध  बनाने  को इनसेस्ट (incest )  कहा  जाता  है , विश्व  के सभी  धर्मों  और हर  देश   के  कानून  में  इसे पाप  और  अपराध  माना  गया  है . लेकिन  मुहम्मद साहब  अपनी वासना  पूर्ति  के  लिए   तुरंत कुरान  की  आयत  सूना  देते  थे  . और इस  निंदनीय   काम  को  जायज  बना  देते थे .कुरान  की इसी  तालीम  के  कारण हर  जगह   व्यभिचार  और बलात्कार  हो रहे  हैं .क्योंकि  मुसलमान  इन  नीच  कर्मों  को गुनाह  नहीं  मानते  ,बल्कि  रसूल  की सुन्नत   मानते  हैं .


http://www.slideshare.net/UnveilingMuhammad/khaula-e



30 टिप्‍पणियां:

  1. इस्लाम मे ब्याभिचार जायज है यह इस बात का सबूत है हो सकता है की जिसे हम भारतीय ब्याभिचार मानते हैं वे उसे सीसताचर मानते हों।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. Koi bhi hai tu teri koi detai nahi na is lie ager tu samne hota tab tujhe sab haqiqat ka pta chal jaata seeta to 5 5 ki lugai thi randi thi sali aur bo naseda jo bhag peeta hai bhola aur btau saale tu detai to de apni is webside par

      हटाएं
    2. इतनी क्यो जल रही ह।।जो सही ह वो है।।इसमें इतना क्यों भड़क रहै हो।।तुम लोग तो आज भी बहन से निकाह करते हो।।
      उन्हें रंडी बना देते हो ।।जो तुम लोगो के साथ भी सोये।।तुम्हरे भाई के साथ सोये।।ओर बाप के साथ ब सोये।।

      पता नही।।आखीर पता कैसे चलता ह।।बाप कोन ह तुम लोगों का।।।

      हटाएं
    3. apni bahan ko mere pas bej de kutte pale Quran pak ko sahi tara se jaan le kutta sala

      हटाएं
  2. http://www.citizenwarrior.com/2008/12/third-jihad.html

    http://www.citizenwarrior.com/2007/10/jihad-through-history.html

    http://www.citizenwarrior.com/2009/05/terrifying-brilliance-of-islam.html

    http://dttj.blogspot.in/2010/09/thomas-jeffersons-quran.html

    जवाब देंहटाएं
  3. " सहसा पानी की एक बूँद के लिए " पढ़े प्यार की बात और भी बहुत कुछ Online.

    जवाब देंहटाएं
  4. इस्लामी शरीयत मानव नैतिकता के खिलाफ है. संक्षेप में, इस्लाम में नैतिकता शरीयत कहना क्या तर्क या नैतिकता नहीं पैदा करती है और क्या है. इस्लाम में अपनी बिबी को पिटना हलाल (जायज) है, लेकिन औरत का बाल भी अजनबी देखें तो यह हराम (नाजायज) है. इस्लामी पुरुष को बहुविवाह और रखैल रखना जायज है, लेकिन औरत के लिये नाजायज है. इस्लाम में पुरुष को 9 साल की लड़की से शादी करके संभोग करना जायज है, लेकिन छोटी उम्र के नासमझ लड़के और लड़कियाँ एक साथ खेलना नाजायज है. इस्लामी पुरुष कमसीन लड़के से संभोग कर सकता है, उसके साथ बच्चाबाजी कर सकता है, यह जायज है. लेकिन दो होमोसेक्सुअल समलैंगिकता नाजायज है. इस्लाम में गैरइस्लामी पुरुषों को मारकर उनकी बेकसुर औरतों पर बलात्कार करना जायज है. यही शरीयत की नैतिकता है. लानत है ऐसी नैतिकता पर और इस तरह की विचारधारा फैलानेवाले तथाकथित अल्लाह के संदेशवाहक और उसकी बलात्कार जायज ठहरानेवाली किताब पर.
    जय हिंद!

    जवाब देंहटाएं
  5. इस्लाम में सुन्नत के खिलाफ काम करनेवाले लोग
    मुहम्मद आम का फल नहीं खाता था (सर सैयद अहमद का पहला पेपर), इसलिए आम खाना सुन्नत के खिलाफ है. मुहम्मद नें कभी मर्सिडिज, बी.एम.डब्ल्यु. में सफर नहीं किया, इसलिए मर्सिडिज, बी.एम.डब्ल्यु. और अन्य गाड़ीयों में सफर करनेवाले सौदी राजपरिवार तथा अन्य मुस्लिम सुन्नत के खिलाफ काम कर रहे हैं, उन्हें इन गाड़ीयों के बजाय घोड़ों, ऊंटों, खच्चरों पर सवारी करनी चाहिए, यही सुन्नत है. मुहम्मद नें कत्ल करने के लिए तलवारें और कुल्हाडीयाँ, खंजर, चक्कू तथा भालों का प्रयोग किया, इसलिए तालिबानी, जिहादी, इस्लामी कट्टरवादी जो ए.के.47 का प्रयोग करके गैरमुस्लिमों को मार रहे हैं, वह सुन्नत के खिलाफ है, उन्हे गैरमुस्लिमों को मारने के लिए हमेशा तलवारें, कुल्हाडीयाँ, खंजर, चक्कू और भालों का प्रयोग करना चाहिेए, ना कि ए.के.47 का. भले ही गैरमुस्लिमों के पास अाधुनिक अग्नीशस्त्र क्यों ना हों. और मुहम्मद के जमाने में मानवीय बम का कोई वजुद ही नहीं था, इसलिए जिहादी मानवीय बम का सहारा लेकर जिहाद को अंजाम देते हैं, वह सुन्नत के खिलाफ है. मुहम्मद के जमानें में आलू, टमाटर, पपिता की पैदाईश सौदी अरेबिया में नहीं होती थी, इसलिए वह मुहम्मद नें इन फलों को कभी नहीं खाया, इसलिए आलू, टमाटर, पपिता वगैराह फल खाना सुन्नत के खिलाफ है. मुहम्मद के जमानें में एअर कंडीशन नहीं हुआ करता था, इसलिए मस्जिद में एअर कंडीशन लगाना सुन्नत के खिलाफ है. मुहम्मद के जमानें में मुंह पर पावडर मलना, नेल पॉलिश लगाना, हाथों पर मेहंदी लगाना जैसे काम नहीं होते थें, इसलिए आज ऐसे काम करना सुन्नत के खिलाफ है. गधा, लकडबघ्घा आदी का गोश्त खाना सुन्नत है, क्योंकि मुहम्मद नें इन दोनों जानवरों का गोश्त खाया था. टट्टी करने के बाद पानी से गुदा को धोना सुन्नत के खिलाफ है, क्योंकि मुहम्मद पानी का प्रयोग करने के बजाय विषम संख्या के पत्थरों का प्रयोग करता था. इसलिए मुसलमानों को आधुनिक अपार्टमेंटों में भी पत्थर का प्रयोग गुदा स्वच्छ करने के लिए करना चाहिए. टेलिफोन, मोबाईल और कम्प्युटर का प्रयोग सुन्नत के खिलाफ है, क्योंकि मुहम्मद के जमाने में टेलिफोन, मोबाईल और कम्प्युटर नहीं हुआ करता था, उसे हवा से ही जिब्रील अल्लाह का संदेसा भेजता था. इसलिए मुसलमानों को टेलिफोन, मोबाईल और कम्प्युटर का प्रयोग नहीं करना चाहिए, और हवा से संदेसा पाने की कोई जरूरत नहीं, क्योंकि यह काम सिर्फ उनके आखरी नबी के लिए मुमकिन था. मुसलमानों को आधुनिक काम जैसे बँक में क्लर्क, कैशियर, मैनेजर बनना, कम्प्युटर ऑपरेटर, प्रोग्रामर बनना इत्यादी काम नहीं करने चाहिए, क्योंकि मुहम्मद के जमानें में इस तरह का काम खुद मुहम्मद और कोई मुसलमान नहीं करता था, वे केवल हाईवे पर जाते हुए कारवाँ की लुटमार, दुसरें काबीलों पर हमला करके उनके जान-माल को लुटना, उनकी औरतों के साथ बलात्कार करना इ. कामों में लिप्त रहते थे. इसलिए आधुनिक मुसलमानों को (आधुनिक शब्द का प्रयोग करनें में संदिग्धता है) बँक में क्लर्क, कैशियर, मैनेजर बनना, कम्प्युटर ऑपरेटर, प्रोग्रामर बनना इत्यादी काम नहीं करने चाहिए, उन्हें केवल हाईवे पर जाते हुए कारवाँ की लुटमार, दुसरें काबीलों पर हमला करके उनके जान-माल को लुटना, उनकी औरतों के साथ बलात्कार करना इ. कामों में लिप्त रहकर अपनी रोजीरोटी कमानी चाहिए, यही असली सुन्नत है.
    जय हिंद!

    जवाब देंहटाएं
  6. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    जवाब देंहटाएं
  7. इस्लाम को आंतकवादी बोलते हो। जापान मे तो अमेरिका ने परमाणु बम गिराया लाखो बेगुनाह मारे गये तो क्या अमेरिका आंतकवादी नही है। प्रथम विश्व युध्द मे करोडो लोग मारे गये इनको मारने मे भी कोई मुस्लिम नही था। तो क्या अब भी मुस्लिम आंतकवादी है। दूसरे विश्व युध्द मे भी लाखो करोडो निर्दोषो की जान गयी इनको मारने मे भी कोई मुस्लिम नही था। तो क्या मुस्लिम अब भी आंतकवादी हुए अगर नही तो फिर तुम इस्लाम को आंतकवादी बोलते कैसे हो। बेशक इस्लाम शान्ति का मज़हब है।और हाॅ कुछ हदीस ज़ईफ होती है।ज़ईफ हदीस उनको कहते है जो ईसाइ और यहूदियो ने गढी है। जैसे मुहम्मद साहब ने 9 साल की लडकी से निकाह किया ये ज़ईफ हदीस है। आयशा की उम्र 19 साल थी। ये उलमाओ ने साबित कर दिया है। क्योकि आयशा की बडी बहन आसमा आयशा से 10 साल बडी थी और आसमा का इंतकाल 100 वर्ष की आयु मे 73 हिज़री को हुआ। 100 मे से 73 घटाओ तो 27 साल हुए।आसमा से आयशा 10 साल छोटी थी तो 27-10=17 साल की हुई आयशा और आप सल्ललाहु अलैही वसल्लम ने आयशा से 2 हिज़री को निकाह किया।अब 17+2=19 साल हुए। इस तरह शादी के वक्त आयशा की उम्र 19 आप सल्ललाहु अलैही वसल्लम की 40 साल थी।हिन्दुओ का इतिहास द्रोपती ने 5 पांडवो से शादी की तो क्या ये गलत नही है हम मुसलमान तो 4 औरते से शादी कर सकते है ऐसी औरते जो विधवा हो बेसहारा हो। लेकिन क्या द्रोपती सेक्स की भूखी थी। और शिव की पत्नी पार्वती ने गणेश को जन्म दिया शिव की पीछे। पार्वती ने फिर किस के साथ सेक्स किया ।इसलिए शिव ने उस लडके की गर्दन काट दी क्या भगवान हत्या करता है ।श्री कृष्ण गोपियो को नहाते हुए क्यो देखता था और उनके कपडे चुराता था जबकि कृष्ण तो भगवान था क्या भगवान ऐसा गंदा काम कर सकता है । महाभारत मे लिखा है कृष्ण की 16108 बीविया थी तो फिर हम मुस्लिमो को एक से अधिक शादी करने पर बुरा कहा जाता । महाभारत युध्द मे जब अर्जुन हथियार डाल देता तो क्यो कृष्ण ये कहते है ऐ अर्जुन क्या तुम नपुंसक हो गये हो लडो अगर तुम लडते लडते मरे तो स्वर्ग को जाओगे और अगर जीत गये तो दुनिया का सुख मिलेगा। तो फिर हम मुस्लिमो को क्यो बुरा कहा जाता है हम जिहाद बुराई के खिलाफ लडते है अत्यचारियो और आक्रमणकारियो के विरूध वो अलग बात है कुछ लोग जिहाद के नाम पर बेगुनाहो को मारते है और जो ऐसा करते है वे ना मुस्लिम है और ना ही इन्सान जानवर है। राम और कृष्ण के तो मा बाप थे क्या कोई इन्सान भगवान को जन्म दे सकता है। वेद मे तो लिखा है ईश्वर अजन्मा है और सीता की बात करू तो राम तो भगवान थे क्या उनमे इतनी भी शक्ति नही थी कि वे सीता के अपहरण को रोक सके। राम जब भगवान थे तो रावण की नाभि मे अमृत है ये उनको पहले से ही क्यो नही पता था रावण के भाई ने बताया तब पता चला। क्या तुम्हारे भगवान राम को कुछ पता ही नही कैसा भगवान है ये। और इन्द्र देवता ने साधु का वेश धारण कर अपनी पुत्रवधु का बलात्कार किया फिर भी आप देवता क्यो मानते हो। खुजराहो के मन्दिर मे सेक्सी मानव मूर्तिया है क्या मन्दिर मे सेक्स की शिक्षा दी जाती है मन्दिरो मे नाच गाना डीजे आम है क्या ईश्वर की इबादत की जगह गाने हराम नही है ।राम ने हिरण का शिकार क्यो किया बहुत से हिन्दु कहते है हिरण मे राक्षस था तो क्या आपके राम भगवान मे हिरण और राक्षस को अलग करने की क्षमता नही थी ये कैसा भगवान है।हमे कहते हो जीव हत्या पाप है मै भी मानता हू कुत्ते के बेवजह मारना पाप है । कीडी मकोडो को मारना पाप है पक्षियो को मारना पाप है।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. Teri bahen khub lund chusati h.
      Tu or tera navi or alla unn sabki gand me dalla

      हटाएं
    2. Allah jo chahta hai vo hota hai , par quaran mai likha hai ki allah ne iblis ko adam ka sadka kane ko kaha par usne nhi mana or shaitan ban gaya, tau allah ne jisko bnaya usne hi nhi mani uski tau allah kaise sabse bada hua
      जवाब दो ��

      तुम दुसरो को बोल रहे हो कि वह तुम्हारे धर्म के बारे मे गलत बात रहे हो। और तुम भी तो गलत बात रहे हो । जब तुम्हे दूसरे धर्म का ज्ञान न हो । तो चुप रहे अपनी बेज़ती ना कराये। जो बाटे तुमने बोली उसका प्रमाण दो।
      ऊपर लिखी बातों में प्रमाण के लिए। क़ुरान आयात पर हदीस संख्या बताई है तुम भी बताओ

      ओर ओर अगर दूसरे धर्म के लोग बेगुनाह को मारते है तो इसका मतलब ये नही की मुसलमान आतंकवाद फैलाएं ताऊ इशे सही कहें। अमेरिका ने जो किया उसका उदहारण तुम मुस्लिम के साथ क्यों दे रहे हो। तुम अपनी बात करो। पूरी दुनिया मे इतने सारे मुस्लिम आतंकवादी संगठन है। वो सही काम कर रहे है क्या। दूसरे देश गलत करे तो उनके उदहारण से तुम्हारा आतंकवाद कैसे सही हो सकता है।
      था धर्म ही काफिरो को मारना सिखाता है।

      Surah al ahjab 33 , aayat 64, अल्लाह ने धिक्कार दिया है काफ़िरों को और तैयार कर रखी है, उनके लिए, दहकती अग्नि।
      Sura Tauba ayat-5 (jaha bhi kafir ko pao uska katal kar do) and Ayat -6 (mai bola hai vo kalma padh le tau chor do)

      हटाएं
    3. Pehle padh to lo jaan to lo kis baare m bol re ho hamesha mohammad k jese ul jalul he bakoge kya😂😂😂😂 mohammad ne jese uski beti aysha s sex kia vo kya h

      हटाएं
    4. Tumara popat mohammad vo khud padha likha nai tha vesai tum.log ho anpad kuch ka kuch bole jaa re mtlb 73 saal ki age m mohammad ne ek buddi aourt k sath sex kia fir usse ek bacchi hui uske bade hote he uske sath bhi sex kr lia wah yr apni he ma behan bacchi ko nai chorte

      हटाएं
  8. और राम या हनुमान ने राम सेतु पुल बनाया था सीता को बचा के लाने के लीए । जब भगवान थे तो पुल बनाने की क्या जरुरत थी उड की नही जा सकते थे। ये एक किस्म की चूतियापंती है और हिन्दु क्या बोलते है कि सारे भगवान मनुष्य के रुप मे थे इसलिए उड के जाने की ताकत नही थी। ये हिन्दु अपनी ही चट करते है और अपनी ही पट। जब मनुष्य के रुप मे भगवान थे। इसका मतलब ये हुआ वे मनुष्य ही भगवान थे । और भगवान उसे कहते है जो कुछ भी कर सकते है तो फिर वे मनुष्य उड क्यो नही सकते थे क्योकि आप लोग तो उनको एक तरीके से भगवान ही मानते हैऔर ब्रहम्मा ने अपनी पुत्री से सेक्स किया था इसलिए हिन्दु ब्रहम्मा की पूजा नही करते है। ब्रहम्मा भी तो आपके भगवान थे भगवान बल्तकार करता है क्या। ये सब आपकी किताबो मे लिखा है। और राम ने अपनी पत्नी सीता की व्रजिन की परीक्षा लेने के लिए घर से बाहर निकाला था। तो क्या औरत को यूही कही भी धक्के दिये जा सकते है। कहने को राम भगवान थे औरत की इज्जत आती नही थी। हमे कहते हो मांस क्यो खाते हो लेकिन ऐसे जानवर जिनका कुरान मे खाना का जिक्र है खा सकते है क्योकि मुर्गे बकरे नही खाऐगे तो इनकी जनसख्या इतनी हो जायेगी बाढ आ जायेगी इन जानवरो की। सारा जंगल का चारा ये खा जाया करेगे फिर इन्सान के लिए क्या बचेगा। हर घर मे बकरे होगे। बताओ अगर हर घर मे भैंसे मुर्गे होगे तो दुनिया कैसे चल पाऐगी। आए दिन सिर्फ हिन्दुस्तान मे लाखो मुर्गे और हजारो कटडे काटे जाते है । 70% लोग मांस खाकर पेट भरते है । सब को शाकाहारी भोजन दिया जाये तो महॅगाई कितनी हो जाएगी। समुद्री तट पर 90% लोग मछली खाकर पेट भरते है। समझ मे आया कुछ शाकाहारी भोजन खाने वालो मांस को गलत कहने वाले हिन्दुओ अक्ल का इस्तमाल करो ।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. ब्रहमा जी ने अपनी पुत्री से शादी की ये कहा लिखा है । कोई सबूत बता। नही तो तेरे धर्म की बुराइयो को तुम्हारी क़ुरान ओर हदीस से सबूत देकर बताता हूं।

      Sura anfal, ayat-65, a nabi tum momino ko ubaro jihad ke liye, 1 momin 10 par bhari padega par uski agli ayat ,(shayad no 66) mai bolte hai ki hume tumhari kamjori ka pata chal gaya ki 1 momin ab 2 par bhari padega, allah ko pahle nhi pata tha ya allah bhi galti karta hai
      जवाब दे।
      Adam islam ka pahla nabi tha Huawa , nabi adam ki patni thi 2 bache hue habil and kabil or habil ne kabil ko mar dala
      Bad mai allah ne adam ko adam peek parvat par patak diya or habil ne hawua se hi bache paida kiye
      Jab duniya mai 2 mard adam or habil and 1 aurat hawua the tau habil ne hauwa se hi tau bache paida kiye

      Habil jo 2nd nabi tha usne huawa jo uski ma thi 2 ladkiya Paida ki fir badi hone par 2no se shadi kari jisme hawua ne uska sath diya ko.
      Jab tumhare nabi aisa karenge tau baki log kya karenge
      Jawab de

      Allah tau apne kalam ko bhi bacha nhi paya Jin पत्तों par Aayte likhi thi unhe aayesha ki bakri kha gayi thi

      फिर अल्लाह कैसा ईश्वर।

      हटाएं
    2. Agar yhi ramayan padh lete to jaan jate kis karan ramayan bani h kya sikh dena chati h 😂😂😂😂 lekin tum katve mulle kya jano jinko unke poppat mohammad jiska koi vajud he nai h usko mante h😂😂😂😂

      हटाएं
  9. Meri sab se ye hi baat h ki vo hadees aur wo books sab ke saamne lao pta lag jayega

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. Sabke samne kaha se khud karid k padh lo jo puppet muham-MAD muslim aurat ko bewkoof kahta ahi wahi puppet kafir ko aurat ko rape karne ki ijajat bhi deta hai ye kaisa God's massenger hai bhai.. jo aurat aur aurat me hi bhed kar deta hai.. pani amrit hai bolta hai aur aasman se gir raha hai aisa bolta. Kya aadmi tha rangeela rasool..

      हटाएं
    2. Haan haan sahi m pta lag jayega rangeela rasul k bare m 😂😂😂 or uski neech harkato k baare m 😂😂😂 jisko ye bhi nai pta dharam hota kya h vo sirf ek community k adhar pr dharam maan lete h chutiye anpadh mulle

      हटाएं
  10. बेनामी फेसबुक पर आ जाते तो हर सवाल का जवाब देता

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. Use. Chhore. Sale. Tu. Lindus. Jo yeah. Galt baten faila raha uska bhi jabaaw dunga 7017770535. Samne. Aa hijre Ram ki nasal

      हटाएं
    2. गाँड़वा मोहम्मद22 अप्रैल 2021 को 11:49 am

      भोसडी के तू। रंडी के बच्चे मोहम्मद की औलाद है। तू भी उसकी तरह भडुआ है अपनी माँ बेहेन का

      हटाएं
  11. माँस खाने की बात पर कहता हूँ माँस शमशान मे होता है। और माँस वहाँ खाना चाहिये जहाँ अनाज की कमी हो जैसे अरब देश

    जवाब देंहटाएं
  12. और ब्रह्मा ने अपनी पुत्री से शादी नही की सरस्वती ब्रह्मा की पुत्री नही थी।

    जवाब देंहटाएं
  13. अबे मुल्ले हमारे धरम मै राम जी मर्यादा पुशोत्तम है। जिनका तेरे को मतलब भी नहीं पता होगा। और उन्होंने अपनी भगवांता या खुदाई दुनिया को नहीं दिखानी थी। इसलिए सीता को खुद उड़ के लेने नहीं गए। मा बाप के कहते ही घर छोड़ कर वनवास के लिए चल दिए थे। हिरण के रूप में उनको भी पता था राक्षस है इसलिए उसको मारा था। और सुन मुल्ले सीता को उनकी प्रजा नाय गलत बोला इसलिए रामजी ने उनका त्याग किया था। और फिर से अपना भी लिया था । गणेश जी को माता पार्वती ने अपनी शक्ति से जन्म दिया था। उनके सिर को शिवजी नाय इसलिए काटा क्योंकि जलाधर राक्षस को आधा इंसान और आधा जानवर ही मार सकता था। कृष्ण जी ने 16 हजार रानिया राक्षस के कारागार से मुक्त करवाई थी । जिनसे कोई भी शादी नहीं करता। इसलिए उनको कृष्ण जी नाय रानियो के रूप में स्वीकार किया था जो उनकी सिर्फ पूजा करती है अपने भगवान और पति के रूप मै। उनके साथ हमारे किसी भी भगवान ने सेक्स नहीं किया था। तुमरे मोहमद की तरह जगह जगह कुरान की गलत दलिले दे कर हमारे भगवान गलत काम नहीं करते और नाही ये हमारे धरम मै कहीं लिखा है। लव जिहाद, धरम परिवर्तन, आतंकवाद ये सब तुम्हारे धरम को मानने वाले करते है और पूरा विश्व मै इस्लाम आज बदनामी की दृष्टि से देखा जाता है। नहीं याद हो तो याद कर को आज भी अमेरिका मै तुम लोगो की कपड़े उतार के तलाशी की जाती है। सबसे ज्यादा हँसी तो तब आती है जब मजहब के नाम पर अपनी बीबी को तलाक के बाद मौलवी के साथ सुलाने वाले तुम लोग बोलते है
    हिन्दुओं में अंधविश्वास है

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. Tooo bta de mohammad ka charirta kya h hamare m to shari raam ka ram charitra manas btaya h ki kis tarag shri raam ka charitra tha kis tarah rehte the tumare to mohammad ki photo bana lo to uski shan m gustaki ho jati h 😂😂😂😂 pta nai mohammad ki shan kisme h shayda aysha s sex krne m shann hogi

      हटाएं
  14. Finest with regard to Temporary Doodlers Developers: Doane�s netbooks usually are distinctive with regard to collaboration grid-and-ruled document, which will, aside from appearing totally post-consumer recycled (with all the include), is without a doubt forever great for building a drawing or perhaps diagram, or simply just organising head in any even more spatially significant approach. https://imgur.com/a/0trpSIS https://imgur.com/a/glBK12P https://imgur.com/a/vc7IK68 https://imgur.com/a/Nvmsavk https://imgur.com/a/80Ee5Dg https://imgur.com/a/kfOLLH2 https://imgur.com/a/hOY1Kfn

    जवाब देंहटाएं
  15. क्या कुरान यही सिखाती है ...

    जवाब देंहटाएं