सोमवार, 4 मार्च 2019

अल्लाहु अकबर यानी हर हर महादेव !

लोग इस लेख का शीर्षक पढ़ कर मजाक समझेंगे ,लेकिन हम पूरी जिम्मेदारी से सभी हिन्दू विद्वानों और मुस्लिम मौलवियों के सामने दावा करते हैं की सभी मुस्लिम हर अजान ,नमाज में और हरेक नारा बोलने से महादेव यानी शिव को याद करते हैं ,
हिन्दू धर्म में भगवांन शिव को सभी देवों से बड़ा माना जाता है , संस्कृत में बड़ा का अर्थ महा होता है , और देव का अर्थ उपास्य भी होता है , हर हर महादेव हिंदुओं का नारा है , युद्ध के समय भी हिन्दू राजा , और सैनिक हर हर महादेव का नारा लगाते आये हैं

संस्कृत का " हर " शब्द ' हरे " शब्द का संक्षिप है , जब किसी को आदर पूर्वक संबोधित किया जाता है ,तो उसके नाम से पहले " हरे " शब्द लगा दिया जाता है ,जैसे " हरे राम , हरे कृष्ण , या हरे भगवांन इत्यादि ,

1-मुसलमान महादेव को कैसे जपते हैं
यदि किसी मुसलमान को महादेव का जाप करने या नाम लेने को कहा जाए तो वह साफ़ इंकार कर देगा ,लेकिन उसे पता होना चाहिए की हर मुस्लिम परोक्ष रूप में रोज महादेव का नाम लेता है ,इस्लाम से पूर्व अरब में अल्लाह " الله-" शब्द नहीं था , अरब में जितने भी कबीले थे सबके अपने अपने देवता थे , अरबी में देवता (god ) को " इलाह -اله " कहा जाता था , मुहमम्द साहब के काबिले कुरैश का जो देवता था वह चन्द्रमा में रहता था और उसका प्रतिक चिन्ह भी अर्ध चंद्र (Crecent ) था , जो आज भी कई मुस्लिम देशों के झंडे में मिलता है

पहले तो मुहम्मद साहब लोगों से यह कहते थे ,

" وَإِلَٰهُنَا وَإِلَٰهُكُمْ وَاحِدٌ "Sura -Ankabut-29:46

(इलाहुना व् इलाहुकुम वाहिद )

अर्थ - हमारा देवता और तुम्हारा देवता एक ही है
our god and your god is one and the same,


लेकिन कुछ समय बाद उनका विचार बदल गया , वह अपने देवता "इलाह اله " को ही सबसे बड़ा देवता बताने लगे , इसके लिए उनहोंने देवता के लिए प्रयुक्त " इलाह -اله " शब्द के पहले अरबी का definite article " अल -ال " लगा कर "अल्लाह الله - शब्द बना लिया इसलिए " अल्लाहु अकबर -الله اكبر " का अर्थ हर हर महा देव है क्योंकि , अरबी शब्द "अल -ال " का आशय "हर " इलाह -اله "का अर्थ देवता और "अकबर اكبر -" का अर्थ महा यानी सबसे बड़ा है , वास्तव में अरबी व्याकरण के अनुसार अल्लाहु अकबर नहीं इलाह अकबर -اله اكبر " होना चाहिए , जिसका अर्थ महा देव "greater god " है , .

सभी मुल्ले मौलवी और पंडित इस बात पर गौर करें , और अपने विचार जरूर प्रकट करें

 ,शिव रात्रि   (04/03/2019

(361)


3 टिप्‍पणियां: